दैनिक भास्कर हिंदी: ऊर्जा मंत्री बावनकुले बोले- OBC को नहीं भूलती है बीजेपी, मुझे भी क्षमता से अधिक दिया

June 17th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। बीजेपी में ओबीसी नेतृत्व की राजनीति को लेकर उठ रहे सवालों के बीच ऊर्जा मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने दो टूक लहजे में कहा है कि उनकी पार्टी किसी के साथ अन्याय नहीं करती है। बावनकुले ने कहा, बीजेपी तो ओबीसी को जपनेवाली अर्थात सम्मान करनेवाली पार्टी है। ओबीसी को वह नहीं भूलती है। स्वयं का उदाहरण देते हुए कहा कि मुझे पार्टी ने औकात अर्थात क्षमता से अधिक दिया। मेरे जैसे सामान्य कार्यकर्ता को मंत्री बनाया। महत्वपूर्ण विभागों की जिम्मेदारी दी।

गौरतलब है कि एक दिन पहले ही बीजेपी विधायक एकनाथ खडसे ने कहा था कि बीजेपी में भी ओबीसी नेता को टारगेट किया जाने लगा है। ओबीसी आंदोलन को समाप्त करने का प्रयास चल रहा है। बदनामी का प्रयास चल रहा है। गोपीनाथ मुंडे के बाद ओबीसी नेतृत्व की रिक्तता कायम है। खडसे ने यह भी कहा था कि यही स्थिति रही तो वे राकांपा नेता छगन भुजबल से हाथ मिलाने में भी परहेज नहीं करेंगे। राज्य में बड़े ओबीसी नेता कहलाने वाले भुजबल भ्रष्टाचार के मामले में हाल ही में कारागृह से बाहर आये हैं। मंत्रिपद से हटाये जाने के बाद खडसे सरकार पर भी प्रहार करते रहे हैं। उनके बयानों को अक्सर बीजेपी नजरअंदाज करती रही है। लेकिन इस बार मंत्री बावनकुले ने खुले तौर पर उनके बयान पर जवाब दिया है।

बावनकुले पर साधा था निशाना
एकनाथ खडसे व चंद्रशेखर बावनकुले के बीच पहले भी बयानबाजियां हुई है। विधानसभा में भी खडसे बावनकुले पर सवाल दागते रहे हैं। खडसे फडणवीस सरकार के गठन के समय राज्य मंत्रिमंडल में दूसरे स्थान पर माने जाते थे। राजस्व, कृषि समेत दर्जन भर विभागों की जिम्मेदारी वे संभाल रहे थे। लेकिन जमीन खरीदी मामले में आरोप लगने के बाद खडसे को मंत्रिपद छोड़ना पड़ा। उसके बाद से वे सरकार व कुछ मंत्रियों की भूमिका पर लगातार सवाल उठाये जा रहे हैं।

रेत मामले में मंत्री बावनकुले पर आरोप लगने पर खडसे ने कहा था कि आरोप तो अन्य मंत्रियों पर भी लगे और लगते रहते हैं लेकिन पद सबको नहीं छोड़ना पड़ता है। बिजली मामले पर उन्होंने विधानसभा में श्री बावनकुले पर सवाल दागा था, पूछा था कि आप केवल विदर्भ के मंत्री हो या संपूर्ण महाराष्ट के। राज्य में 24 घंटे बिजली उपलब्ध होने का दावा करते हो फिर जलगांव में पर्याप्त बिजली क्यों नहीं मिल पाती है। राजनीतिक गलियारे में चर्चा रहती है कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ वर्चस्व की राजनीति के कारण खडसे को राजनीतिक कोपभांजन का शिकार होना पड़ रहा है। श्री बावनकुल मुख्यमंत्री के करीबी मंत्रियों में शामिल हैं।