comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

आवेदन लेकर दफ्तर के चक्कर काट रहे हितग्राही, नौ महीने में नहीं आया टारगेट

आवेदन लेकर दफ्तर के चक्कर काट रहे हितग्राही, नौ महीने में नहीं आया टारगेट

स्वरोजगार योजनाओं की जिले में बदतर स्थिति, अब वित्तीय वर्ष खत्म होने में बचे महज चार माह
डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा ।
वित्तीय वर्ष खत्म होने में अब महज चार महीने का समय बचा हुआ है, लेकिन स्वरोजगार के लिए शासन के आदेश का इंतजार कर रहे हितग्राही जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र के चक्कर काटते-काटते थक चुके हैं, लेकिन न तो स्वरोजगार योजनाओं के आए और न ही शासन अभी तक जिले में दिया जाने वाला टारगेट तय नहीं कर पाया है।
मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना और मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के तहत हर साल अप्रैल माह में जिला स्तर पर टारगेट तय कर दिया जाता था, लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के चलते मार्च में ही प्रदेश में लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई। जुलाई में जैसे-तैसे जिले में कामकाज शुरू हुआ, लेकिन सरकारी विभागों की स्थिति में कोई सुधार नहीं आ पाया। उम्मीद थी कि अनलॉक के साथ ही शासन युवाओं को स्वरोजगार के लिए दिए जाना वाले लोन के भी रास्ते खोल देगी, लेकिन अप्रैल से नवंबर आ गया शासन ने इस ओर आज तक ध्यान नहीं दिया। अब तो हितग्राही भी सरकारी कार्यालय के चक्कर काटते-काटते थक चुके हैंं।
उम्मीद... दिसंबर में आ सकता है टारगेट
नौ महीने से अधिकारियों को भी स्वरोजगार योजनाओं के लिए टारगेट का इंतजार है। अफसरों का मानना है कि दिसंबर में टारगेट शासन द्वारा दिया जा सकता है। बड़ी संख्या में हितग्राही योजनाओं की पूछताछ करने के लिए कार्यालय पहुंच रहे हैं। यदि दिसंबर में भी शासन ने टारगेट तय कर दिया तो मार्च तक हर हाल में सभी प्रक्रियाएं पूर्ण ली जाएंगी। मार्च के पहले ही बैंकों को प्रकरण पहुंचा दिए जाएंगे।
असर क्या...आत्मनिर्भरता की खुली कलई
कोरोना काल में एक तरफ सरकार आत्मनिर्भरता की बात कह रही है, लेकिन हकीकत ये है कि अभी तक शासन द्वारा स्वरोजगार योजनाओं के लिए शुरू की गई योजनाओं की पहले से भी बदतर हालत हो गई है। ऋण लेने के इच्छुक और पात्र हितग्राहियों को भी लोन नहीं मिल पा रहा है। जबकि कोरोना काल में जनप्रतिनिधि युवाओं को खुद का स्वरोजगार स्थापित करने की सीख अपने भाषणों में दे रहे हैं।
496 हितग्राहियों का आता है टारगेट
मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना और मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना में हर साल 496 हितग्राहियों को लोन देने का टारगेट दिया जाता है। जिसमें स्वरोजगार में 460 और युवा उद्यमी में 36 हितग्राहियों को लोन दिया जा सकता है, लेकिन इस बार इन दोनों ही योजनाओं का लक्ष्य तय नहीं किया गया। सिर्फ प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना का ही टारगेट जिला स्तर पर दिया गया है।
इनका कहना है...
॥स्वरोजगार योजनाओं का टारगेट अभी नहीं आया है, लेकिन उम्मीद है कि दिसंबर तक शासन स्तर से टारगेट दिया जा सकता है।
-राघवेंद्र शाह उईके,
सहायक प्रबंधक,जिला व्यापार एवं रोजगार केंद्र
 

कमेंट करें
DeV62
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।