सुपारी का खेल: डीआरआई की कार्रवाई से भूमिगत हुए सुपारी कारोबारी

October 12th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  सुपारी हब के रूप में उभरे नागपुर में राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) चेन्नई व गुवाहाटी की (राजस्व खुफिया निदेशालय) की टीम आकर सुपारी व्यापारियों की जड़ें खोदने की चर्चा पिछले कुछ दिनों से गर्म है, लेकिन डीआरआई नागपुर के पूरे मामले से अनभिज्ञ है। डीआरआई नागपुर का कहना है कि फिलहाल हमने किसी सुपारी व्यापारी को हिरासत में नहीं लिया आैर न ही किसी सुपारी व्यापारी से पूछताछ की।

हर बड़े शहर में फैला है गोरखधंधा : नागपुर में देश-विदेश से सुपारी आती है। सुपारी की मांग काफी ज्यादा होने से सुगंधित व घटिया सुपारी भी नागपुर में आती है। सुपारी का यह गोरखधंधा देश के हर बड़े शहर में फैला है। बड़े पैमाने पर आयातित सुपारी के मामले में जो बिल पेश किए गए थे, वह फर्जी होने के आरोप हैं। इसी सिलसिले में चेन्नई व गुवाहाटी की डीआरआई टीम नागपुर पहुंचने की खबर है। टीम के आने की खबर के बाद से सुपारी व्यापारी भूमिगत हुए हैं।

नागपुर कार्यालय को मालूम नहीं
इस बीच डीआरआई नागपुर के सूत्रों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि डीआरआई की टीम कहां-कहां से आई, इसकी जानकारी कार्यालय को नहीं है। हमारी तरफ से किसी को हिरासत में नहीं लिया गया। इसी तरह हाल फिलहाल में किसी सुपारी व्यापारी से पूछताछ भी नहीं की गई। फिलहाल डीआरआई नागपुर के मुखिया मंुबई में है आैर उन्होंने अन्य शहरों से आई डीआरआई की टीम ने नागपुर में कार्रवाई किए जाने की जानकारी से अनभिज्ञता जताई।

पिछले साल पकड़ी थी लाखों की सुपारी
डीआरआई नागपुर ने पिछले साल लाखों रुपए की प्रतिबंधित व घटिया सुपारी पकड़ी थी। इस मामले में ट्रक ड्राइवरों समेत कुछ व्यापारियों को हिरासत में भी लिया था।

कारोबारियों के घर भी पहुंची टीम
खबर है कि चेन्नई की टीम ने कुछ सुपारी व्यापारियों से पूछताछ की। कुछ सुपारी व्यापारियों के घर भी टीम पहुंची, लेकिन व्यापारी मिले नहीं। सुपारी कारोबार को लेकर शहर में शह-मात का खेल भी चलता रहता है। अधिकारियों का इस्तेमाल कर अपने विरोधी को दबाने के काम भी होने की खबर है। फंसाने का डर दिखाकर सुपारी व्यापारियों को ब्लैक मेल करने के मामले भी इसके पूर्व हुए हैं। पुलिस तक मामले पहुंचे थे।

कुछ पर कार्रवाई, कुछ से पूछताछ
डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (डीआरआई) ने हाल ही में शहर के कुछ सुपारी व्यापारियों पर आयातित सुपारी से संबंधित बिल को लेकर कार्रवाई की है। बताया जा रहा है कि अभी केवल 2-3 व्यापारियों पर ही कार्रवाई हुई है, लेकिन विभाग की नजर इससे जुड़ी बड़ी मछली पर लगी हुई है। जाली बिल पर सुपारी के आयात को लेकर सुपारी विक्रेता टिंकू और राजू अण्णा से पूछताछ की गई है। इतवारी में कुछ अन्य व्यापारियों पर भी पूछताछ की सूई लटक रही है। हालांकि जिन व्यापारियों पर कार्रवाई होने की बात कही जा रही है उन्होंने अपने ऊपर किसी भी तरह की कार्रवाई से इनकार कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...