बिहार: भारतीय सेना में बिहार रेजिमेंट का गौरवपूर्ण इतिहास रहा है : फागू चौहान

September 2nd, 2021

हाईलाइट

  • भारतीय सेना में बिहार रेजिमेंट का गौरवपूर्ण इतिहास रहा है : फागू चौहान

डिजिटल डेस्क, पटना। बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने यहां बुधवार को कहा कि बिहार रेजिमेंट भारतीय सेना का मजबूत अंग है और इसके सैनिकों के शौर्य, पराक्रम और वीरता तथा मातृभूमि की रक्षा के लिए उनके त्याग और बलिदान का गौरवपूर्ण इतिहास रहा है। पटना के दानापुर कैंट स्थित बिहार रेजिमेंट सेंटर के अखौरा ऑडिटोरियम में आयोजित वीरता पुरस्कार से सम्मानित सैनिकों, वीर नारियों के अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा, चाहे कारगिल की लड़ाई हो या लद्दाख की गलवान घाटी में संघर्ष या कोई अन्य चुनौतीपूर्ण परिस्थिति, बिहार रेजिमेंट ने प्रत्येक अवसर पर अपने अदम्य साहस का परिचय दिया है और प्राणों की आहूति देकर देश की रक्षा की है। मुंबई में हमले के समय भी हमने इसके शौर्य को देखा है।

राज्यपाल ने कहा कि राष्ट्र की सीमाओं की सुरक्षा तथा इसकी संप्रभुता, एकता एवं अखंडता की रक्षा करने में भारतीय सेना का महत्वपूर्ण योगदान है। पाकिस्तान के साथ युद्ध हो या सीमा-रेखा पर चीन के साथ टकराव, हर संघर्ष में भारतीय सेना ने अपनी मातृभूमि की रक्षा और इसके मान-सम्मान के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है।राज्यपाल ने कहा, वर्ष 1971 के भारत-पाक युद्ध में मिली भारतीय सेना की जीत के 50 वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्य में वर्ष 2021 को स्वर्णिम विजय वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। साथ ही भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के अवसर पर देश अपनी आजादी का अमृत महोत्सव भी मना रहा है।

उन्होंने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि यह महोत्सव हम में नई ऊर्जा का संचार करेगा तथा देश की एकता और अखंडता को अक्षुण्ण रखते हुए प्रगति के पथ पर आगे बढ़ने की हमारी संकल्प शक्ति को मजबूत करेगा। राज्यपाल ने अमृत महोत्सव के क्रम में विभिन्न वीरता पुरस्कारों वीर चक्र, शौर्य चक्र, कीर्ति चक्र एवं सेना मेडल से पुरस्कृत 24 सैन्य अधिकारियों, सैनिकों एवं शहीद सैनिकों (मरणोपरांत पुरस्कृत) की पत्नियों, माताओं (वीर नारियों) को सम्मानित किया। कार्यक्रम को युद्ध सेवा मेडल से सम्मानित झारखंड एवं बिहार सब एरिया के जनरल ऑफिसर कमांडिंग मेजर जनरल राजपाल पुनिया ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर बिहार रेजिमेंटल केंद्र के कमांडेंट ब्रिगेडियर आलोक खुराना, सैन्य अधिकारीगण, सैनिकों एवं भूतपूर्व सैनिकों तथा उनके परिजन एवं अन्य लोग उपस्थित रहे।

 

(आईएएनएस)