comScore

नागपुर जिले में फिर ‘बर्ड फ्लू’ ने दी दस्तक,228 पक्षियों को जमीन में गाड़ा

नागपुर जिले में फिर ‘बर्ड फ्लू’ ने दी दस्तक,228 पक्षियों को जमीन में गाड़ा

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कोरोना संकट से नागपुर जिला कोे अभी निजात भी नहीं मिली है कि एक और संकट ‘बर्ड फ्लू’ ने दस्तक दे दी है। फिलहाल पशु संवर्धन विभाग की तत्परता के कारण रोग का प्रकोप रोकने में सफलता मिली है। विभाग ने लगभग 228 पक्षियों को वैज्ञानिक पद्धति से नष्ट कर जमीन में गाड़ दिए हैं। कुछ महीने पहले नागपुर जिले के वारंगा में बर्ड फ्लू ने नींद उड़ाई थी। अब जिले के कामठी तहसील स्थित नेरी गांव में मुर्गी का एक नमूना प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजा गया था। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर प्रयोगशाला द्वारा जिला पशुसंवर्धन विभाग को सूचना दी गई।

नियंत्रण पाने के लिए रात-दिन प्रयास जारी
रिपोर्ट मिलने के बाद जिला पशुसंवर्धन अधिकारी डॉ. युवराज केने, जिला पशु वैद्यकीय चिकित्सालय नागपुर के डॉ. उमेश हिरुलकर, ़डॉ. अविरुद्ध पाठक, डॉ. सपाटे, डॉ. भालेराव, डॉ. सिरसाट, डॉ. लीना पाटील, डॉ. अविरत सवाईमूल, डॉ. मंगेश काले ने विभाग के अन्य अधिकारियों के साथ तुरंत नेरी गांव पहुंचे। जिस परिसर में बर्ड फ्लू संक्रमित कुक्कुट पक्षी (मुर्गी) पाई गई, उस परिसर से एक किलोमीटर परिसर के लगभग 228 से अधिक पक्षी वैज्ञानिक पद्धति से नष्ट किए गए। डॉ. केने ने बताया कि बर्ड फ्लू अन्य कहीं फैले नहीं, इसके लिए उसे नष्ट कर जमीन में गाड़ दिया गया है। विभाग के अधिकारी-कर्मचारी इसे रोकने के लिए रात-दिन कार्यरत हैं। डॉ. केने ने चेतावनी दी है कि जिन्होंने पक्षी नष्ट करने के लिए लाए नहीं, उनके पक्षी जब्त कर नष्ट किए जाएंगे। उन्होंने नागरिकों से सहयोग का आह्वान किया है। 

घबराने की जरूरत नहीं 
नागरिकों को घबराने की जरूरत नहीं है। अंडे उबालकर और चिकन पकाकर खाने से रोग का प्रार्दुभाव नहीं होता है, लेकिन पोल्ट्रीफार्म धारकों का नुकसान न हो, इसलिए सभी खबरदारी और जिम्मेदारी विभाग ने ली है। रात-दिन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी कार्यरत हैं।   -डॉ. युवराज केने, जिला पशुसंवर्धन अधिकारी, जिप 
 

कमेंट करें
Z1NAx
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।