प्रकरण दर्ज: भाजपा पार्षद कुकरेजा के कार्यालय में तोड़फोड़, तनाव

February 28th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  भाजपा पार्षद विक्की कुकरेजा के कार्यालय में तोड़-फोड़ की गई। उन पर हमला किए जाने का भी आरोप है। घटना के विरोध और समर्थन में कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं में टकराव हो गया। दोनों पार्टियों के पदाधिकारी कार्यकर्ताओं ने जरीपटका थाने का घेराव किया। नारेबाजी होती रही। टायर जलाकर रोष प्रकट किया। इससे परिसर में दिन भर तनाव बना रहा। स्थिति को नियंत्रित करने आला पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। दंगा निरोधक दस्ते को भी तैनात किया गया। आरोप-प्रत्यारोप के चलते दोनों पार्टियों के लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। 

पार्षद किसी कार्यक्रम में गए थे  : उत्तर नागपुर के प्रभाग क्र. एक के पार्षद विक्की कुकरेजा का दयानंद पार्क के पास जन संपर्क कार्यालय है। कुकरेजा ने बताया कि रविवार की सुबह वे कुछ लोगों के साथ भूमिपूजन करने गए थे। उस वक्त उनके कार्यालय में अनूसूचित जनजाति इकाई की स्थानीय अध्यक्ष लीनाताई सोमकुंवर पार्टी की एक महिला पार्षद और कुछ कार्यकर्ता के साथ थीं। इस दौरान बाबू खान नामक कांग्रेस पार्टी का पदाधिकारी कुछ महिला व पुरुष कार्यकर्ताओं के साथ जबरन उनके कार्यालय में प्रवेश किया और तोड़-फोड़ की। पता चलते ही कुछ कार्यकर्ताओं के साथ हम कार्यालय पहुंचे। एक महिला ने बताया कि परिसर में विकास कार्य नहीं करने से उन्हें ऐसा करने के लिए कहा गया था। 

विकास के नाम पर शुरू हुई बात : मार-पीट और तोड़-फोड़ की खबर फैलते ही भाजपा के अन्य पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौके पर पहुंचे। नारेबाजी होती रही। थाने का घेराव किया गया। प्रकरण में कांग्रेस कार्यकर्ता के लिप्त होने का आरोप लगाया गया। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई। यह जानकारी मिलते ही दक्षिण-पश्चिम के विधायक विकास ठाकरे, ऊर्जा मंत्री एवं जिले के पालकमंत्री नितीन राऊत के पुत्र व युवा कांग्रेस उपाध्यक्ष कुणाल राऊत भी अपने कार्यकर्ताआंे के साथ थाने पहुंचे। उनका कहना था कि तोड़-फोड़ और मार-पीट उनके पार्टी के कार्यकर्ताओं ने नहीं, बल्कि परिसर में विकास कार्य नहीं करने से नाराज जनता ने की है। इसका ठीकरा कांग्रेस के सिर फोड़ा जा रहा है। 

दोनों दलों के लोग आमने-सामने : घटित प्रकरण में दोनों पार्टी के लोग आमने-सामने आ गए। इससे परिसर में तनाव का माहौल रहा। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए दंगा निरोधक दस्ते के साथ जोन क्र.पांच के उपायुक्त मनीष कलवानिया, अपर पुलिस आयुक्त नवीनचंद्र रेड्डी मौके पर पहुंचे। दोनों पार्टी के लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। 

राजनीतिक षड़यंत्र
राजनीतिक षड़यंत्र के तहत कार्यालय में तोड़फोड़ की गई। प्रदर्शनकारी महिला कार्यकर्ताओं ने न तो अपना नाम बताया न ही यह बता पाई कि वे किस परिसर की निवासी हैं। जनसमस्याओं को सुनने के लिए मेरे कार्यालय में जिस तरह स्टाफ नियुक्त िकया गया है, वह कम ही देखने को मिलेगा। विकास कार्य के लिए कोई भेदभाव नहीं किया जाता है। लेकिन बाबू खान नामक कार्यकर्ता के इशारे पर लगातार विवाद बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। मेरे सहयोगी संजय चौधरी से बाबू खान ने 3 दिन पहले ही आर्थिक लेन-देन की मांग की थी।  - विक्की कुकरेजा,नगरसेवक

तोड़-फोड़ का नाटक रचा
कुकरेजा ने बचाव में कार्यालय में तोड़-फोड़ का आरोप रचा। युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने नहीं, बल्कि कुकरेजा के कार्यकर्ताओं ने ही तोड़-फोड़ की। कार्यालय के सीसीटीवी फुटेज में यह साफ हो गया है। जनप्रतिनिधि के नाते नागरिकों को सहयोग करने के बजाय कुकरेजा ने दबाव की नीति अपनाई। युवक कांग्रेस के कार्यकर्ता सहित महिला कार्यकर्ताओं से मारपीट की गई। इस मामले को सामाजिक टकराव का विषय बनाने का प्रयास किया गया।  -कुणाल राऊत, उपाध्यक्ष, युवक कांग्रेस महाराष्ट्र

दोनों पक्षों के आरोपों की जांच की जा रही है : सीपी
 मामले को लेकर पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार ने ऑनलाइन पत्रकार वार्ता में बताया कि दोनों पक्षों के आरोपों की जांच की जा रही है। उन्होंने नागरिकों से आह्वान किया है कि किसी भी तरह की निराधार बातों को लेकर तनाव बढ़ाने का कारण न बनें। पुलिस को मिली शिकायत के आधार पर पुलिस आयुक्त ने कहा है कि बाबू खान के साथ महिला कार्यकर्ता बस्ती की समस्याओं को लेकर निवेदन देने के लिए कुकरेजा के कार्यालय में गई थी। वहां कुकरेजा के दो कार्यालय सहायक थे। करीब 15 मिनट बाद कुकरेजा कार्यकर्ताओं के साथ कार्यालय में पहुंचे। उन्होंने बाबू खान पर वसूली के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया। साथ ही महिला कार्यकर्ताओं से कहा कि उन्होंने वोट नहीं दिया था। विवाद बढ़ने पर मारपीट हुई। बाबू खान के बचाव में एक महिला कार्यकर्ता के कपड़े फट गए। आरोपों के आधार पर कुकरेजा व उनके 25 से अधिक सहयोगियों के खिलाफ एट्रोसिटी एक्ट, अभद्र व्यवहार, गाली-गलौज, मारपीट के चलते धारा 354, 345 बी, 147, 149, 323, 506, 3 (1)(ई) 3(1) (आर) 3(1) (एस) के तहत प्रकरण  दर्ज िकया गया है। कुकरेजा की शिकायत पर बाबू खान और अन्य के खिलाफ 147, 149, 345 बी, 385, 294 और 506 के तहत प्रकरण दर्ज िकया गया है।