दैनिक भास्कर हिंदी: अब भाजपा वाले भी छेड़ेंगे गांधी राग, गूंजेगी वैष्णव जन की धुन

September 29th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राज्य में चुनाव तैयारी में जुटी BJP ने महात्मा गांधी के मार्ग पर चलने की तैयारी की है। आमतौर पर कांग्रेस की रैलियों में दिखनेवाला नजारा अब BJP की रैली में दिखेगा। शांति व सहिष्णुता के आव्हान के साथ बजनेवाली वैष्णव जन के गाने की गूंज BJP की रैली में नजर आएगी। यही नहीं BJP कार्यकर्ताओं की पोशाक में भी बदलाव दिखेगा। सफेद या खादी की शर्ट पहने BJP कार्यकर्ता जनसंवाद साधते नजर आएंगे। BJP के विविध कार्यक्रमों में पोस्टर , बैनर पर महात्मा गांधी की फोटो प्रमुखता से नजर आएगी। 

2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की 150 वी जयंती मनायी जा रही है। इसी मौके पर प्रदेश BJP अपने विशेष कार्यक्रम की शुरुआत करेगी। स्वच्छता संवाद पदयात्रा के माध्यम से शहर व गांव में BJP कार्यकर्ता जनसंपर्क करेंगे। प्रदेश BJP की कार्यकारिणी की बैठक में यह निर्णय लिया गया है। मतदाताओं को लुभाने के लिए पार्टी ने 32 कार्यक्रम तय किए हैं। इनमें हर वर्ग के मतदाताओं का ध्यान रखा गया है। कहा जा रहा है कि राज्य में ग्रामीण व किसान वर्ग सबसे अधिक परेशानी व्यक्त कर रहा है,लिहाजा उन्हें विश्वास में लेने के लिए पार्टी ने संवाद कार्यक्रमों में 15 से अधिक कार्यक्रम ग्रामीण क्षेत्र पर ही फोकस करके रखे हैं। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, BJP के प्रदेश अध्यक्ष रावसाहब दानवे व अन्य पदाधिकारियों ने सारे कार्यक्रमों के लिए जिम्मेदारियां बांट दी है। महात्मा गांधी की जयंती के मौके पर 2 अक्टूबर से आरंभ होनेवाली स्वच्छता संवाद पदयात्रा 30 जनवरी 2019 तक चलेगी। विधानसभा क्षेत्र स्तर पर पदयात्रा होगी। 

प्रत्येक जिले में कम से कम 150 किमी पदयात्रा का लक्ष्य रखा गया है। पदयात्रा के दौरान महात्मा गांधी के जीवन पर आधारित प्रचार सामग्रियों का भी वितरण होगा। इसके अलावा 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती पर राष्ट्रीय एकता दौड़ का आयोजन होगा। आदिवासी समुदाय तक पहुंचने के लिए विशेष जनजातीय कार्यक्रमों की योजना बनायी गई है। BJP के सभी प्रकोष्ठों को भी जनसंपर्क कार्यों की जिम्मेदारी सौंपी गई है। विविध प्रदर्शनों में आगे रहनेवाला BJP युवा मोर्चा , युवा खिलाड़ियों को संगठन से जोड़ने का काम करेगा। 

इसके लिए खेलो महाराष्ट्र कार्यक्रम तैयार किया गया है। महिलाओं के लिए प्रभाग स्तर पर सम्मेलन आयोजित किए जाएंगे। मातृशक्ति का सम्मान कार्यक्रम के माध्यम से बुजुर्ग व जिम्मेदारी भरे कार्य संभाल रही महिलाओं का सम्मान होगा। प्रभाग स्तर पर एक साथ 10 से 15 हजार महिलाओं का सम्मान होगा। पुराने कार्यकर्ताओं की सुध ली जाएगी। बकायदा ऐसे कार्यकर्ताओं की सूची तैयार की जाएगी जो संगठन में पहले योगदान देते रहे हैं।

खबरें और भी हैं...