comScore

भाजपा का ऑपरेशन कमल आयुर्वेदिक है, सफल नहीं होगा : राऊत

भाजपा का ऑपरेशन कमल आयुर्वेदिक है, सफल नहीं होगा : राऊत

डिजिटल डेस्क, मुंबई । शिवसेना सांसद संजय राऊत ने विधान परिषद में राज्यपाल नामित 12 सीटों पर नियुक्ति लटकने को लेकर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और भाजपा पर निशाना साधा है। पत्रकारों से बातचीत में राऊत ने कहा कि राजनीतिक हलकों में नियुक्ति में देरी करके अक्टूबर तक लटकाए रखने की चर्चा है।  भाजपा ऑपरेशन कमल शुरू करेगी। फिर बाद में आने वाली सरकार 12 सीटों पर नियुक्ति करेगी। लेकिन भाजपा ऐसे ऑपरेशन का सपना न देखे। यह सफल नहीं होने वाला है। राऊत ने कहा कि मुझे नहीं मालूम है कि ऑपरेशन कमल के लिए कौन से सर्जन आने वाले हैं। लेकिन मैं कह सकता हूं कि ऑपरेशन कमल आयुर्वेदिक है। इतने जल्दी ऑपरेशन पूरा नहीं होने वाला है। पांच साल बाद विधानसभा चुनाव होगा। उस समय भाजपा जो चाहे वो ऑपरेशन करे।

राऊत ने कहा कि 15 जून को विधान परिषद में राज्यपाल नामित 12 सीटें रिक्त हुई। इसके बाद इन सीटों पर तत्काल नियुक्ति होनी जरूरी है। यह राज्य मंत्रिमंडल और विधानमंडल का अधिकार है। लेकिन नियुक्ति न होने से साल 1975 के आपातकाल की तरह राजनीतिक आपातकाल तो नहीं है। यह सवाल लोगों के मन में उठ रहा है। यह विधानमंडल और स्वतंत्रता का गला घोंटना ही साबित होगा। राऊत ने कहा कि राज्यपाल नामित 12 सीटों पर नियुक्ति राजनीति में फंसता हुआ नजर आ रहा है। इसलिए महाविकास आघाडी के घटक दलों ने अभी तक 12 सीटों पर नामित किए जाने वाले सदस्यों की सूची तैयार नहीं की है। भाजपा को राजनीति करने के बजाय सहयोग की भूमिका अदा करनी चाहिए।  इसी बीच राऊत ने एक सवाल के जवाब में कहा कि राकांपा अध्यक्ष शरद पवार मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से नाराज नहीं हैं। भाजपा को पवार की नाराजगी की चिंता करने की जरूरत नहीं है। राऊत ने कहा कि पवार अभिभावक के नाते कुछ बोलते हैं तो उसको नाराजगी नहीं समझनी चाहिए। उनका प्रशासन में काम करने का अनुभव बहुत अधिक है। 

हम चाहते हैं कि वह मार्गदर्शन करते रहे। अहमनगर के पारनेर नगर पंचायत के शिवसेना के पांच नगर सेवकों को राकांपा में शामिल करने के सवाल पर राऊत ने कहा कि यह स्थानीय राजनीति का हिस्सा है। मैं नहीं मानता हूं कि उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने नगरसेवकों ने तोड़ा है। राकांपा के पारनेर के विधायक नीलेश लंके ने नगरसेवकों को पार्टी में शामिल करवाया है। फिर भी आगे से दोनों दलों को इस पर ध्यान रखने की जरूरत है। 

राऊत 12 विधायकों की चिंता न करें: फडणवीस 
विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा राऊत को विधान परिषद में नामित किए जाने वाले 12 विधायकों के बजाय महाराष्ट्र की चिंता करनी चाहिए। राज्य के कोरोना के मरीजों की चिंता करनी चाहिए। राऊत अगर पूछते कि जिन्हें उपचार नहीं मिल रहा है उनका क्या होगा तो मुझे ज्यादा खुशी होती।

कमेंट करें
daCqs