comScore

IRCTC एजेंट की मदद से रेल टिकट की कालाबाजारी का भंडाफोड़,14 गिरफ्तार

IRCTC एजेंट की मदद से रेल टिकट की कालाबाजारी का भंडाफोड़,14 गिरफ्तार

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  तालाबंदी के बाद पटरी पर आ रही रेल गाड़ियों का संचालन टिकटों की कालाबाजारी को बढ़ावा दे रहा है। दपूम रेलवे की ओर से आरपीएफ के महानिरीक्षक अमिय नंदन सिन्हा के दिशा निर्देश पर बिलासपुर, रायपुर व नागपुर मंडल अंतर्गत टिकटों की कालाबाजारी करने वालों की धरपकड़ की गई। जिसमें गत एक माह में 14 टिकट दलालों की गिरफ्तारी हुई है।  इनके पास से भविष्य जर्नी की 53 हजार व हो चुकी जर्नी की 4 लाख रुपये की कुल साढ़े चार लाख की टिकटें पकड़ी गई है। टिकटों की कालाबाजारी करने वालों में 10 आईआरसीटीसी के एजेंट भी शामिल हैं। जो अपनी पर्सनल आई के भरोसे टिकटें निकालकर यात्रियों को अतिरिक्त राशि लेकर बेचते थे। 

उल्लेखनीय है कि मार्च महीने से कोविड-19 के कारण यात्री गाड़ियों के पहिये थमे थे। जिसके कारण टिकटों की कालाबाजारी का कोई सवाल नहीं उठ रहा था। लेकिन 1 जून से रेलवे ने सामान्य यात्रियों के लिए कुछ गाड़ियों को शुरू किया  है। जिसमें हर कोई टिकट पाने की जद्दोजहद में है। इसी को देखते हुए टिकट दलाल भी सक्रिय हो गये हैं। आरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी को इस बात का अंदेशा होते ही उन्होंने नागपुर सहित बिलासपुर व रायपुर मंडल अंतर्गत टिकटों की कालाबाजारी करनेवालों पर कार्रवाई के आदेश दिये। सभी मंडल अंतर्गत इसकी धरपकड़ के लिए फ्लाइंग स्कॉड बनाये गये हैं। जो लगातार कार्रवाई कर रहे हैं। मई महीने के शुरूआत से शुरू हुई इस कार्रवाई में अब तक साढ़े चार लाख की टिकटों की कालाबाजारी का भंडाफोड़ हुआ है। जिसमें सर्वांधिक बिलासपुर मंडल से 7, रायपुर मंडल से 4 और नागपुर मंडल से 3 कार्रवाई की गई है। पकड़े गये 14 टिकट दलाल अलग-अलग 63 पर्सनल आई डी के सहारे टिकटों की कालाबाजारी कर रहे थे।

कमेंट करें
c53WX