comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

भाई-बहन मर्डर केस : कीमती जेवरातों के लिए चचेरे भाई व जीजा ने की हत्या

भाई-बहन मर्डर केस : कीमती जेवरातों के लिए चचेरे भाई व जीजा ने की हत्या

डिजिटल डेस्क, औरंगाबाद। दीपावली को वॉटसएप पर सोने के आभूषण पहनकर भेजे गए फोटो देखकर अंधे हुए चचेरे भाई व उसके जीजा ने ही लालच में सातारा परिसर में सगे भाई-बहन की निर्मम हत्या काे अंजाम दिया । 9 जून की रात साढ़े आठ बजे के दौरान किरण लालचंद खंदाडे-राजपूत (19) और सौरभ लालचंद खंदाडे-राजपूत (17) की बेरहमी से गला रेतकर हत्या करने की घटना की तकनीकी ढंग से जांच कर अपराध शाखा पुलिस ने हत्या के आरोपी चचेरे भाई सतीश कालूराम खंदाडे-राजपूत (20, पाचणवडगांव, जि. जालना) और अर्जुन देवचंद राजपूत (25, रोटेगांव रोड, वैजापुर) को गिरफ्तार कर लिया है। हत्या के बाद उड़ाए गए सोने के आभूषणों में से पुलिस ने कुछ आभूषण बरामद कर लिए हैं। 

पुलिस आयुक्त चिरंजीव प्रसाद ने  प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि मूलत: वैजापुर तहसील निवासी अर्जुन राजपूत मिस्त्री का काम करता था। वह वर्तमान में मुकुंदवाड़ी भाग में रहता था। लॉकडाउन शुरू होने से वह ससुराल पाचणवडगांव में रह रहा था। लालचंद राजपूत की पाचणवडगांव में खेती है। उसकी पत्नी अनिता भारतीय जीवन बीमा निगम की प्रतिनिधि हैं। लालचंद ने कुछ वर्ष पूर्व पाचणवडगांव में खेती का कुछ हिस्सा बेचा था। उससे प्राप्त हुए पैसों से उन्होंने सोना खरीदकर रखा था। इस बात का पाचणवडगांव के कई ग्रामस्थों को पता था। इन्हीं आभूषणों पर सगे भतीजे सतीश की नजर थी। पाचणवडगांव जाते समय लालचंद पत्नी को साथ लेकर आभूषण पहनाकर घूमता था। उनके सोने के आभूषण सतीश को खटकते थे। इस कारण लालचंद के घर से आभूषण पार करने की उसने योजना बनाई थी। 9 जून को उसे इसका अवसर मिला। लालचंद को गांव बुलाने से वह पत्नी, छोटी बेटी सपना को लेकर पाचणवडगांव  चला गया। उसे घर से जाते देखकर सतीश व उसके जीजा अर्जुन ने कहा कि अब यही मौका है और जल्दबाजी में दुपहिया से औरंगाबाद की दिशा में निकल पड़े। औरंगाबाद आने से पूर्व उन्होंने जालना से एक चाकू व कोयता खरीदा। दोपहर 12 बजे के दौरान दोनों लालचंद के कनकोरबेन नगर स्थित बंगले पर पहुंचे। इसके बाद दोनों ने घर में दो बार चाय-पानी लिया था। घर में काफी देर सौरभ, सतीश व अर्जुन ने कैरम भी खेला था। इस दौरान किरण ऊपरी मंजिल पर आराम करने चली गई थी।

इस तरह की नृशंस हत्या
कैरम खेलते समय शाम पांच बजे के दौरान सतीश ने कहा कि उसको एलर्जी होने से उसको साबुन से हाथ धोना है। इसके लिए उसने पूछा कि साबुन कहां रखा है। इस कारण सौरभ उसके हाथ धुलाने के लिए बाथरुम ले गया था। तब साबुन देते समय अर्जुन ने पीछे से सौरभ के गले पर चाकू से वार किया तो सतीश ने उस पर काेयते से हाथ पर वार किया। जान बचाने के लिए सहायता के लिए शोर मचाने पर उसकी नाक पर मुक्का मारा। इस कारण वह मौके पर बेहोश गिर पड़ा। उसकी दर्दनाक आवाज सुनकर स्नान करते बैठी किरण ऊपर की मंजिल से दौड़ती नीचे आई। तब उसके बाल पकड़कर सतीश बाथरुम ले गया और चाकू से उसका गला काट दिया। ज्यादा खून बहने से दोनों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था।

सोने के आभूषण, नगदी, मोबाइल पार किए
दोनों भाई-बहन का गला रेतने के बाद भीतर के कमरे मंे रखी अलमारी के ड्राअर से सोने के आभूषणों से भरा बैग, साढ़े छह हजार रु नकद व किरण का मोबाइल दोनों आरोपियों ने पार कर दिया। हत्या प्रकरण की गुत्थी सुलझाने के बाद पुलिस ने मुकुंदवाड़ी से सोने के आभूषणों सहित बैग जब्त किया। प्रकरण की साइबर पुलिस की मदद से जांच करते हुए उनकी कॉल डिटेक्ट की गईं। बाद में अपराध शाखा के एसीपी डॉ. नागनाथ कोड़े, अनिल गायकवाड़, साइबर पुलिस थाने की पीआई गीता बागवड़े, सुरेंद्र मालाले के मार्गदर्शन में एपीआई गौतम वावले, एएसआई शेख नजीर, हवलदार सतीश जाधव, चंद्रकांत गवली, सुधाकर राठोड़, सुधाकर मिसाल, रवि खरात आैर नितिन देशमुख ने दोनों हत्यारों को पकड़ लिया।

कमेंट करें
S7e8N
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।