comScore

राज्यसभा में महाराज ने की मोदी सरकार की तारीफ, दिग्गी राजा ने ली चुटकी, कहा- वाह जी वाह 

राज्यसभा में महाराज ने की मोदी सरकार की तारीफ, दिग्गी राजा ने ली चुटकी, कहा- वाह जी वाह 

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)। भारतीय जनता पार्टी के मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गुरुवार को राज्यसभा में कांग्रेस सहित विपक्ष के सभी नेताओं पर जोरदार हमला बोला। उन्होंने विपक्षी नेताओं के सरकार पर हमले का जवाब देते हुए कहा कि आप सुनाने के लिए तो आ गए, लेकिन सुनने के लिए नहीं आए, अब आपको सुनना पड़ेगा। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि जिस सरकार ने किसानों को लागत से डेढ़ गुना एमएसपी का भुगतान किया। जिस सरकार ने 2013-14 में 236 करोड़ से 40 गुना यानी 10,850 करोड़ रुपये दलहन किसानों को भुगतान किया, जिस सरकार ने किसानों के सम्मान के लिए हर साल उनके खाते में 6,000 रुपये पहुंचाया हो, जिस सरकार ने फसल बीमा योजना लागू की हो, वो सरकार किसान विरोधी नहीं बल्कि किसानों के लिए प्रतिबद्ध है।

इधर, सिंधिया के मुंह से मोदी सरकार की तारीफ सुनकर कांग्रेस से राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा कि ‘माननीय सिंधिया जी को बधाई देता हूं। जितने अच्छे ढंग से वे यूपीए सरकार का पक्ष रखते थे, उतने ही अच्छे ढंग से उन्होंने एनडीए सरकार का पक्ष रखा। वाह जी महाराज वाह, वाह जी महाराज वाह!’। 

वहीं, उस सयम भी राज्यसभा में अजीब स्थिति बन गई जब सिंधिया के भाषण के तुरंत बाद दिग्विजय सिंह का नाम बोलने के लिए सामने आया। इसके बाद राज्यसभा में ठहाके लगने लगे, ठहाकों के बीच सभापति एम वेंकैया नायडू ने चुटकी ली, बोले- ‘मैंने कुछ परिवर्तन तो किया नहीं। लिस्ट में जो नाम आए, उसी के हिसाब से मैंने दिग्विजय सिंह का नाम पुकारा।’ इस पर दिग्विजय सिंह भी मुस्कुरा दिए।

सिंधिया ने विपक्षी नेताओं की कथनी और करनी में अंतर का आरोप लगाया...

सिंधिया ने आगे कहा कि 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में हुई घटना के मुद्दे को उठाते हुए विपक्षी सांसदों पर प्रहार किया। उन्होंने कहा कि 26 जनवरी का दिन हर भारतीय के लिए गौरव का दिवस होता है। 394 पुलिसकर्मियों और पत्रकारों को घायल किया। तिरंगे को लेकर पुलिसकर्मियों को पीटा गया और कुएं में फेंका गया। राजधानी के कई हिस्सों को तहस-नहस कर दिया गया। उसके बाद भी जब सदन चलता है तो राष्ट्रपति अभिभाषण का बहिष्कार कर देश और लोकतंत्र का तिरस्कार किया जाता है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने विपक्षी नेताओं की कथनी और करनी में अंतर का आरोप लगाया।

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भारत में कोरोना प्रबंधन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना की। उन्होंने कहा कि भारत का रिकवरी रेट 97 प्रतिशत है। जो विश्व में सबसे बड़ा आंकड़ा है। भारत को दूसरी लहर छू भी नहीं सकी है। नेतृत्व ने सही समय पर सही निर्णय लिया। लॉकडाउन से लाखों लोगों की जान बची। खुद कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा की संसदीय कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में सरकार के प्रयासों की सराहना की है।

कमेंट करें
tcgiE
कमेंट पढ़े
Indresh Kumar shah February 04th, 2021 17:37 IST

ham aap ke sath bjp mera ghar hai

Indresh Kumar shah February 04th, 2021 17:37 IST

jarur maharaj ji congratulations

NEXT STORY

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 21वीं सदी में भारत की राजनीति में तेजी से बदल रही हैं। देश की राजनीति में युवाओं की बढ़ती रूचि और अपनी मौलिक प्रतिभा से कई आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। बदलते और सशक्त होते भारत के लिए यह राजनीतिक बदलाव बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा ऐसी उम्मीद हैं।

अलबत्ता हमारी खबरों की दुनिया लगातार कई चहरों से निरंतर संवाद करती हैं। जो सियासत में तरह तरह से काम करते हैं। उनको सार्वजनिक जीवन में हमेशा कसौटी पर कसने की कोशिश में मीडिया रहती हैं।

आज हम बात करने वाले हैं मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस (सोशल मीडिया) प्रभारी व राष्ट्रीय समन्वयक, भारतीय युवा कांग्रेस अभय तिवारी से जो अपने गृह राज्य छत्तीसगढ़ से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं और छत्तीसगढ़ को बेहतर बनाने के प्रयास के लिए लामबंद हैं।

जैसे क्रिकेट की दुनिया में जो खिलाड़ी बॉलिंग फील्डिंग और बल्लेबाजी में बेहतर होता हैं। उसे ऑलराउंडर कहते हैं अभय तिवारी भी युवा तुर्क होने के साथ साथ अपने संगठन व राजनीती  के ऑल राउंडर हैं। अब आप यूं समझिए कि अभय तिवारी देश और प्रदेश के हर उस मुद्दे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगातार अपना योगदान देते हैं। जिससे प्रदेश और देश में सकारात्मक बदलाव और विकास हो सके।

छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या बहुत पुरानी है. लाल आतंक को खत्म करने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही है. बावजूद इसके नक्सल समस्या बरकरार है।  यह भी देखने आया की पूर्व की सरकार की कोशिशों से नक्सलवाद नहीं ख़त्म हुआ परन्तु कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार के कदम का समर्थन करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर अभय तिवारी ने विश्वास जताया है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार एक संवेदनशील सरकार है जो लड़ाई में नहीं विश्वास जीतने में भरोसा करती है।  श्री तिवारी ने आगे कहा कि जितने हमारे फोर्स हैं, उसके 10 प्रतिशत से भी कम नक्सली हैं. उनसे लड़ लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विश्वास जीतना बहुत कठिन है. हम लोगों ने 2 साल में बहुत विश्वास जीता है और मुख्यमंत्री के दावों पर विश्वास जताया है कि नक्सलवाद को यही सरकार खत्म कर सकती है।  

बरहाल अभय तिवारी छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री बघेल के नक्सलवाद के खात्मे और छत्तीसगढ़ के विकास के संबंध में चलाई जा रही योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह कई बार कहा है कि अगर हथियार छोड़ते हैं नक्सली तो किसी भी मंच पर बातचीत के लिए तैयार है सरकार। वहीं अभय तिवारी  सर्कार के समर्थन में कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें और हथियार छोड़कर संवैधानिक तरीके से बात करें।  कांग्रेस सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए हर संभव नक्सलियों को सामाजिक  देने का प्रयास करेगी।  

बीते 6 महीने से ज्यादा लंबे चल रहे किसान आंदोलन में भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अभय तिवारी की खासी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। युवा कांग्रेस के बैनर तले वे लगातार किसानों की मदद के लिए लगे हुए हैं। वहीं मौजूदा वक्त में कोरोना की दूसरी लहर के बाद बिगड़ी स्थितियों में मरीजों को ऑक्सीजन और जरूरी दवाऐं निशुल्क उपलब्ध करवाने से लेकर जरूरतमंद लोगों को राशन की व्यवस्था करना। राजनीति से इतर बेहद जरूरी और मानव जीवन की रक्षा के लिए प्रयासरत हैं।

बहरहाल उम्मीद है कि देश जल्दी करोना से मुक्त होगा और छत्तीसगढ़ जैसा राज्य नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ देगा। देश के बाकी संपन्न और विकासशील राज्यों की सूची में जल्द शामिल होगा। लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जब अभय तिवारी जैसे युवा और विजनरी नेता निरंतर रणनीति के साथ काम करेंगे तो जल्द ही छत्तीसगढ़ भी देश के संपन्न राज्यों की सूची में शामिल होगा।