दैनिक भास्कर हिंदी: सेना में शामिल होने पहुंचे इंजीनियरिंग व बीएड पास

December 28th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सेना में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी नागपुर पहुंच चुके हैं। शहर के बर्डी किला पर हजारों की संख्या में भीड़ उमड़ रही है। इतनी ज्यादा संख्या में युवा पहुंचे हैं कि उन्हें संभालना मुश्किल हो रहा है। दरअसल, 118 प्रादेशिक सेना भर्ती का आयोजन 27 दिसंबर से 2 जनवरी तक किया जाएगा। इसमें महाराष्ट्र के साथ-साथ आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, गुजरात, केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, राजस्थान, दादर, नगर हवेली, दमन और दीव, लक्षद्वीप, पुड्डुचेरी के 18 ये 42 वर्ष के व्यक्ति आवेदन कर सकते हैं। इनमें इंजीनियरिंग व बीएड पास भी सेना में शामिल होने के इच्छुक दिखाई दे रहे हैं।

फिजिकली  व मेडिकल परीक्षण
शारीरिक में 1.6 किलोमीटर की दौड़, बीम और 9 फीट गड्ढा और संतुलन का परीक्षा देनी होगी। इसके उपरांत मेडिकल परीक्षण किया जाएगा। शारीरिक परीक्षा व मेडिकल परीक्षण होने के बाद लिखित परीक्षा के लिए तारीख दी जाएगी। स्थायी टैटू केवल हाथ के अागे के हिस्सों में स्वीकार होगा शरीर के अन्य हिस्से पर नहीं। जो दौड़ में पास होंगे, उनका मेडिकल होगा। मेडिकल में पास होने के बाद लिखित परीक्षा में बैठने का मौका मिलेगा। 

यह है योग्यता

  • उम्र- 18 से 42 वर्ष भर्ती के दिन।
  • लंबाई- 160 सेंटीमीटर और उससे अधिक।
  • वजन- 50 किलोग्राम और उससे अधिक।
  • सीना- न्यूनतम 77 सेंटीमीटर, फुलाने पर 5 सेंटीमीटर या उससे अधिक।
  • शैक्षणिक योग्यता
  • जनरल ड्यूटी सिपाही - 10वीं किसी या समकक्ष, 45 फीसदी अनिवार्य। 
  • ट्रेडमैन - रसोईया व नाई के लिए 10वीं पास होना अनिवार्य।
  • चरित्र - अच्छा
  • नोट- यदि सरकारी नौकरी में हैं तो अनापत्ति प्रमाण-पत्र लेकर पहुंचें। 42 साल से कम उम्र के भूतपूर्व सैनिक भी इसमें शामिल हो सकते हैं।

जरूरी दस्तावेज

  • मूल अंकसूची के साथ उसकी छायाप्रति
  • रंगीन फोटोग्राफ (पासपोर्ट साइज) - 20
  • स्थायी निवास प्रमाण-पत्र सहित अन्य दस्तावेज
  • विद्यालय चरित्र प्रमाण-पत्र    
  • जाति प्रमाण-पत्र
  • राशन कार्ड या मतदाता पहचान पत्र
  • जिला, प्रदेश व राज्य स्तरीय एनसीसी, कम्प्यूटर व खेल प्रमाण-पत्र
  • अविवाहित प्रमाण-पत्र सिर्फ 18 से 21 वर्ष के लिए अनिवार्य
  • पैन कार्ड व आधार कार्ड अनिवार्य दस्तावेज हैं जो भर्ती प्रकिया के अंत में वेतन, भत्ता व अन्य सामाजिक लाभ के लिए हैं।