दैनिक भास्कर हिंदी: राम के नाम पर संतो का बंटवारा दुर्भाग्यपूर्ण - बाबा रामदेव 

February 2nd, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में हो रही देरी को लेकर कुछ संतों द्वारा जाहिर की गई नाराजगी पर बाबा रामदेव का कहना है कि राम के नाम पर संतों का बंटवारा दुर्भाग्यपूर्ण है। राम किसी पार्टी के नहीं राष्ट्र के हैं। बाबा रामदेव शनिवार को मिहान में बनाये जा रहे पतंजलि फ़ूड पार्क के कामों का अवलोकन करने के लिए नागपुर आये थे।

इस दौरान पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहां कि राम के नाम पर संतों में बंटवारा बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। राम के प्रति सच्ची श्रद्धा व्यक्त करनी चाहिए। राष्ट्र में गलत संदेश नहीं जाना चाहिए संत एक नहीं हुए नेक नहीं हुए तब देश की एकता-अखंडता को कैसे अक्षुण रखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि वो सभी शंकराचार्य और संतों से अपील करते हैं कि देश में राम के नाम पर बंटवारा न हो। बाबा ने कहा की देश के 99 फिसदी संत एक साथ हैं बचे एक फीसदी को अपनी भूमिका पर पुनर्विचार करना चाहिए। राम राष्ट्र की स्मिता,सम्मान,स्वाभिमान,जीवन के आचरण और मर्यादा है। राम मंदिर बनाना चाहिए। राम और सीता के जैसे राष्ट्र का चरित्र निर्माण होना चाहिए। साधु संतो का धड़ों में बंटना अशोभनीय है। बाबा ने बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बोला कि बजट किसानों,युवाओं,देश के मध्यमवर्ग का बजट है। गौमाता के लिए तो यह श्रेष्ठ है।

खबरें और भी हैं...