दैनिक भास्कर हिंदी: महाकाल की नगरी से पुष्प नक्षत्र में निकलेगी सीएम शिवराज की जन आशीर्वाद यात्रा

July 14th, 2018

हाईलाइट

  • मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले वोटरों को साधने के लिए बीजेपी अभियान की शुरुआत कर रही है।
  • इस अभियान का नाम दिया गया है जन आशीर्वाद यात्रा।
  • यात्रा के लिए दो हाईटेक रथ तैयार किए गए हैं।
  • अभियान की शुरुआत 14 जुलाई को पुष्प नक्षत्र में महाकाल की नगरी उज्जैन से होगी।

डिजिटल डेस्क, भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले वोटरों को साधने के लिए बीजेपी अपने अभियान की शुरुआत करने जा रही है। इस अभियान का नाम दिया गया है जन आशीर्वाद यात्रा। यात्रा के लिए दो हाईटेक रथ तैयार किए गए हैं, जिसमें तमाम तरह की सुविधाएं हैं। अभियान की शुरुआत 14 जुलाई को पुष्प नक्षत्र में महाकाल की नगरी उज्जैन से होगी। महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में पूजा-अर्चना के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह इस यात्रा को हरी झंडी दिखाएंगे। वर्ष 2008 और 2013 में भी बीजेपी ने विधानसभा चुनाव से पहले उज्जैन से ही जन आशीर्वाद यात्रा की शुरुआत की थी। इस यात्रा के रथ को शुक्रवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान सहित तमाम नेताओं की मौजूदगी में प्रदेश बीजेपी कार्यालय से पूजन के बाद उज्जैन के लिए रवाना किया गया।

फेमस कार डिज़ाइनर ने किया है रथ डिजाइन
शिवराज सिंह चौहान जिस रथ पर सवार होंगे उसे वर्ल्ड फेमस कार डिज़ाइनर दिलीप छाबड़िया ने डिजाइन किया है। इस पर ढाई करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। रथ में 10 लोगों के बैठने की व्यवस्था है, ताकि शिवराज सिंह के साथ और लोग भी इसमें बैठ सकें। रथ में लाइट का ऐसा अरेंजमेंट किया गया है कि रात में जहां भी मुख्यमंत्री की सभा होगी वहां के मंच को भी जगमगा सकता है। इसके साथ ही इसमें वाईफ़ाई, मोबाइल फोन चार्जर, टीवी स्क्रीन और वॉशरूम की सुविधा है। रथ में एक सर्वसुविधा युक्त पैंट्री भी है। बस के अंदर और बाहर दोनों जगह सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए है। 40 हाईटेक कैमरों के साथ ही यात्रा में भी पूरे समय 500 सुरक्षाकर्मी रहेंगे।
 




अमित शाह के लिए तैयार होंगे दाल बाफले
भाजपा अध्यक्ष शाह व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित 100 लोगों के लिए सर्किट हाउस पर विशेष भोजन तैयार होगा। भोजन इंदौर की आयोजन केटरिंग के 35 लोगों की टीम तैयार करेगी। भोजन में दाल-बाफले, रोटी व भिंडी-आलू मैथी-चवला की सब्जी, बूंदी वाला रायता, गुजराती खांडवी-खमण व दो प्रकार के नमकीन व हलवा, पापड़-सलाद आदि रहेगा। ब्लैक, लेमन सहित पांच प्रकार की चाय, सूप व काफी के अलावा पान की व्यवस्था भी रहेगी।

230 विधानसभा क्षेत्रों में जाएगी यात्रा
यात्रा अलग-अलग चरणों में 55 दिन में 230 विधानसभा क्षेत्रों से होकर निकलेगी। इस दौरान मुख्यमंत्री हर विधानसभा क्षेत्र मे एक विशाल सभा को संबोधित करेंगे, जबकि 475 से ज्यादा रथ सभाएं भी करेंगे। यात्रा के पहले चरण में 14 से 15 जुलाई तक सीएम शिवराज करीब 11 विधानसभाओं को संबोधित करेंगे। वहीं जन आशीर्वाद यात्रा का दूसरा चरण 18 जुलाई से मैहर में मां शारदा की पूजा के साथ शुरू होगा। 25 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भोपाल के जंबूरी मैदान पर यात्रा का समापन करेंगे। इस दौरान भाजपा का कार्यकर्ता समागम होगा।

क्या कहा सीएम शिवराज ने?

  • पिछले 15 वर्षों में मध्यप्रदेश का जो विकास हुआ है, उस विकास को जन आशीर्वाद यात्रा के माध्यम से जनता के समक्ष रखेंगे और अगले 5 सालों में मध्यप्रदेश में क्या काम करना है, यह जनता से पूछेंगे और उनका आशीर्वाद लेंगे।
  • हमारा एक ही लक्ष्य है कि सब सुखी हों, सब निरोग रहें और सबका कल्याण हो। इस लक्ष्य को लेकर जनकल्याणकारी योजनाएं भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने बनाई हैं। 
  • कांग्रेस अगर प्रदेश की चिंता करती तो मध्यप्रदेश बीमारू राज्य नहीं बनता। कांग्रेस ने प्रदेश को लगातार बदनाम करने का काम किया है।
  • प्रदेश की प्रगति और विकास उनके मन में आनंद और प्रसन्नता पैदा नहीं करता। एक अलग तरह का द्वेष पैदा करता है, लेकिन हम सबके कल्याण की बात करते हैं। 
  • कांग्रेस प्रदेश में भ्रम फैलाने के अलावा कुछ नहीं कर सकती। अब उनके पास सिर्फ यहीं काम बचा है। कांग्रेस उनका काम कर रही है, लेकिन हम जनता के आशीर्वाद के लिए निकल चुके हैं।


क्या कहा बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने?

  • बीजेपी सरकार के जनहित और जनकल्याण कार्यों के कारण ही जनता ने हर बार शिवराजसिंह चौहान को आशीर्वाद दिया है और मध्यप्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है।
  • जन आशीर्वाद यात्रा एक यात्रा न होकर विजय का शंखनाद है।
  • कांग्रेस के पास कहने और करने के लिए कुछ नहीं है। भ्रम का वातावरण पैदा करना सिर्फ कांग्रेस को ही शोभा देता है। तीन बार प्रदेश की जनता कांग्रेस को नकार चुकी है और इस चुनाव में भी परिणाम यही आने वाले हैं।
  • कांग्रेस हताशा और निराशा से उपजी कुंठा के कारण अलग-अलग तरह के षडयंत्र रचने की कोशिश कर रही है जो उस पर भी भारी पड़ने वाले हैं।