दैनिक भास्कर हिंदी: शिकार माफिया से मिले हुए हैं मुनगंटीवार, अवनी मामले की सीबीआई जांच हो : संजय निरुपम

November 10th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। यवतमाल में मारी गई आदमखोर बाघिन अवनी की मौत के बाद राजनीति गर्माने लगी है। पक्ष न विपक्ष दोनों एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं।  अब मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने अवनी की हत्या के लिए राज्य के वनमंत्री सुधीर मुनगंटीवार पर शिकार माफिया से संबंध होने का आरोप लगाते हुए उन्हें मंत्रिमंडल से हटाए जाने की मांग की है। 

जय के गायब होने पर भी उठाए सवाल

शनिवार को कुछ एनजीओ के पदाधिकारियों के साथ प्रेस कांफ्रेंस कर निरुपम ने कहा कि वनमंत्री मुनगंटीवार जानवरों की हत्या के लिए जाने जाते हैं। निरपम ने कहा कि मुनगंटीवार शिकार करने वाले माफियाओं की अंतर्राष्ट्रीय टोली में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि मुनगंटीवार के वन मंत्री बनने के बाद बाघों के शिकार में बढ़ोतरी हुई है। 2014 में मुनगंटीवार वन मंत्री बने थे। उसके बाद 2015 में 14, वर्ष 2016 में 16 और 2017 में 21 बाघों की मौत हुई। वर्ष 2017 में बाघों की मौत के मामले में महाराष्ट्र मध्य प्रदेश के बाद दूसरे क्रमांक पर रहा। निरुपम ने कहा कि अवनी बाघिन की हत्या के मामले में मुनगंटीवार को मंत्रिमंडल से बाहर किया जाना चाहिए। कांग्रेस नेता यहीं नहीं रुके उन्होंने अवनी की मौत मामले की  जांच सीबीआई से कराए जाने की मांग कर डाली है। उन्होंने कहा कि देश का सबसे बड़ा बाघ जय महाराष्ट्र से गायब हो गया। मुनगंटीवार के वनमंत्री रहते बाघ सुरक्षित नहीं हैं।
 
निरुपम पर मानहानि का मुकदमा करेंगे मुनगंटीवार
वनमंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा है कि अवनी की मौत को लेकर हो रही राजनीति रुकनी चाहिए। उन्होंने मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम के आरोपों को निराधार व बेतुका बताते हुए कहा कि वे निरुपम के खिलाफ चंद्रपुर न्यायालय में मानहानि का मुकदमा करेंगे। उन्होंने कहा कि निरुपम से हम और क्या अपेक्षा कर सकते हैं। मेरे कार्यकाल में सिर्फ अवनी की गोली से मौत हुई है बाकि बाघों की मौत प्राकृतिक थी।   

खबरें और भी हैं...