दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोना की रफ्तार हर दिन तोड़ रहा रिकार्ड, सारे उपाय हो रहे फेल

April 10th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कोरोना संक्रमण की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है। एक बार फिर सारे रिकॉर्ड को ध्वस्त करते हुए एक दिन में सबसे अधिक 6489 संक्रमित मिले हैं। 64 लोगों की मौत हुई है।  इसी के साथ कोरोना से मरनेवालों की कुल संख्या 5641 हो चुकी है। हर घंटे 270 नए मरीज सामने आ रहे हैं।  गुरुवार को 5514 संक्रमित मिले थे, जबकि 73 लोगों की जान गई थी। उधर, अस्पतालों में बेड खाली नहीं बचे हैं। मरीजों को घंटों इंतजार के बाद चिकित्सकीय सुविधाएं मुहैया हो रही हैं।

एक्टिव मरीजों की संख्या 50 हजार के करीब : जिले में स्वस्थ हाेनेवाले मरीजों के मुकाबले एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़ रही है। एक समय ऐसा आया था कि जिले में एक्टिव मरीजों की संख्या 3 हजार थी। अब यह संख्या 50 हजार के करीब पहुंच चुकी है। इस समय शहर में 32597 और ग्रामीण में 16750 मिलाकर 49347 एक्टिव मरीज हैं। इनमें से 12736 लोगों को मध्यम व तीव्र लक्षण होने से सरकारी, निजी अस्पताल और कोविड केयर सेंटर में उपचार ले रहे हैं। वहीं 36611 लोग हाेम क्वारेंटाइन हैं। 

सर्वाधिक जांच : शुक्रवार को सर्वाधिक सैंपल 22797 की जांच की गई। इसमें शहर के 4016, ग्रामीण के 2466 और जिले के बाहर के 7 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके साथ ही जिले में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 266224 पर पहुंच गई है।

2175 लोग स्वस्थ : शुक्रवार को शहर के 37, ग्रामीण के 20 और जिले के बाहर के 7 मिलाकर कुल 64 लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ही कोरोना से मरनेवालों की कुल संख्या 5641 हो चुकी है। दिनभर में 2175 लोग स्वस्थ होकर घर लौटे हैं। अब तक कुल 211236 लोग स्वस्थ हुए है।

स्वास्थ्य संसाधनों की कमी, वेंटिलेटर पड़ गए क
बढ़ती कोरोना रोगियों की संख्या ने सरकारी व्यवस्थाओं की पोल खोलकर रख दी है। पहली लहर में मंत्रियों से लेकर अफसरों तक ने ऐसे दावे किए थे, कि स्वास्थ्य संसाधनों की कोई कमी नहीं रहेगी। दूसरी लहर में पोल खुली तो सबने चुप्पी साध रखी है। शुक्रवार को 500 में से एक भी वेंटिलेटर खाली नहीं था। शहर के मेडिकल अस्पताल में शुक्रवार को 800 बेड थे। इसमें से 250 आईसीयू और वेंटिलेटर बेड हैं। सूत्रों ने बताया कि इसमें से एक भी बेड खाली नहीं था। मेयो अस्पताल में कोविड के लिए 535 बेड हैं। इसमें से सभी बेड फुल हैं। 535 में से 135 आईसीयू और वेंटिलेटर बेड हैं। ये सब फुल हैं। शहर में कुल 3312 ऑक्सीजन, 1523 आईसीयू और 515 वेंटिलेटर बेड हैं। मनपा की मानें तो इसमें से 294 ऑक्सीजन, 20 आईसीयू बेड खाली हैं। वेंटिलेटर एक भी खाली नहीं है।