comScore

स्वअनुशासन से ही संभव है कोरोना पर नियंत्रण, लॉकडाउन विकल्प नहीं 

स्वअनुशासन से ही संभव है कोरोना पर नियंत्रण, लॉकडाउन विकल्प नहीं 

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शहर में कोरोना संक्रमण के बढ़ते आंकड़ें चिंता का विषय हैं। एक समय था, जब संक्रमण की श्रृंखला तोड़ने के लिए 3 महीने पूरा देश लॉकडाउन रहा। अब संक्रमण की स्थिति नियंत्रण से बाहर हो रही है। इस भयावह स्थिति से निपटने के लिए अनेक व्यापारी संगठनों ने लॉकडाउन लगाने का समर्थन किया है। इस बारे में महापौर संदीप जोशी और मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी. से बातचीत करने पर उन्होंने लॉकडाउन की संभावना सेे स्पष्ट इनकार किया है। उनका कहना है कि, स्वअनुशासन कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण का सर्वोत्तम उपाय है। इसे नियंत्रित करने के लिए लोगों को अपने आचरण में बदलाव करना जरूरी है। कोई जरूरी काम रहने पर ही घर से बाहर निकलें। मास्क का नियमित उपयोग और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।

खुद अपनी चिंता करें
कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए लॉकडाउन अंतिम विकल्प नहीं है। कोरोना को हराना है, तो लोगों को स्वअनुशासन में रहना जरूरी है। पुणे में 10 दिन लॉकडाउन किया गया, पर कोई सकारात्मक परिणाम नहीं आया। जो लोग लॉकडाउन लगाने की बात करते हैं, वहीं दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करते। बार-बार लॉकडाउन लगाने की बात करने वालों को खुद अपनी चिंता करनी चाहिए। -संदीप जोशी, महापौर

शासन-प्रशासन का कोई इरादा नहीं
लॉकडाउन लगाने का शासन-प्रशासन का कोई इरादा नहीं है। जो लोग लॉकडाउन चाहते हैं, वे खुद अपने व्यवसाय बंद रखें, इसमें प्रशासन को काेई दिक्कत नहीं है। लोगों को संयम बरतना चाहिए। अपने व्यवहार में बदलाव लाना चाहिए। दिशा-निर्देशों का पालन करने पर ही कोरोना को हराया जा सकता है। लॉकडाउन से नियंत्रण में करना संभव नहीं है। -राधाकृष्णन बी. आयुक्त, महानगरपालिका नागपुर

कमेंट करें
fXGU2