comScore

कोविड-19 : नागपुर में अधिकांश के मौत का कारण केवल कोरोना नहीं

कोविड-19 : नागपुर में अधिकांश के मौत का कारण केवल कोरोना नहीं

डिजिटल  डेस्क, नागपुर। शहर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 1100 के पार पहुंच चुका है। 18 मरीजों की मौत हो चुकी है। बावजूद इसके भयभीत होने की जरूरत नहीं है। अगर सावधानी रखें तो इस बीमारी को भी मात देने में कामयाबी मिलेगी। दरअसल, शहर में जो भी मौतें दर्ज हैं, उनमें कई ऐसे मरीज भी शामिल हैं, जो पहले से गंभीर बीमारियों की चपेट में थे।  भास्कर हिन्दी डॉट काम ने पड़ताल की तो यह खुलासा हुआ। ये संक्रमित मरीज पहले से ही हार्ट, सांस लेने में परेशानी, बीपी, शुगर, कैंसर जैसी बीमारियों की चपेट में थे।

11 मरीज इनमें ऐसे हैं, जिनकी उम्र 55 के पार है। 70 से ज्यादा उम्र के 3 मरीज शामिल हैं। मरने वालों में दो युवा भी शामिल हैं। इसमें एक युवक लिवर, टीबी जैसी गंभीर बीमारी से पीड़ित पहले से ही था। शराब की भी लत थी। दूसरा युवक मानसिक बीमारी से पीड़ित था। दरअसल, कोरोना से होने वाली मौत में पोस्टमार्टम नहीं कराया जाता। इसलिए आधिकारिक तौर पर नहीं कहा जा सकता कि मौत का आखिर कारण क्या है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की गाइडलाइन के मुताबिक कोरोना मरीजों की मौत को कोरोना से हुई मौत में ही गिना जाता है।

इस पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकता
कोविड-19 के मामले में पोस्टमार्टम नहीं किया जाता है। इसलिए मरीज की मौत के कारण को लेकर कोई टिप्पणी नहीं कर सकता।    -डॉ. सागर पांडे, अधीक्षक, मेयो

बताना मुश्किल है कि मौत किससे हुई
मरीज की मौत कोरोना से हुई या अन्य बीमारी से बताना मुश्किल है। अन्य गंभीर बीमारियों के कारण परेशानी बढ़ जाती है और लगता है कि मौत कोरोना के कारण हुई। आईसीएमआर की गाइडलाइन के मुताबिक कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की मौत को कोरोना मौत में ही गिना जाता है।               -डॉ. विभा दत्ता, निदेशक, एम्स

कमेंट करें
BaYRx