comScore

कोविड-19 : लक्षण छुपाएं नहीं, जांच कराएं

कोविड-19 : लक्षण छुपाएं नहीं, जांच कराएं

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय के वैद्यकीय अधीक्षक व बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. अविनाश गावंडे ने कहा कि कोरोना संक्रामक रोग है, लेकिन उससे घबराने की जरूरत नहीं है। जरूरत है सिर्फ जरूरी सावधानी बरतने की। कोरोना के पहले बड़ी-बड़ी बीमारियों का सामना किया गया है। स्वाइन फ्लू जैसे संक्रामक रोग मेंे मृत्यु दर ज्यादा होती है। कोरोना में ऐसी स्थिति नहीं है, लेकिन संक्रमण का ज्यादा खतरा रहता है। इसलिए हर व्यक्ति को मास्क लगाना अनिवार्य है। इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर का उपयोग करना और बार-बार साबुन से हाथ धोना आवश्यक है। कोरोना का प्रभाव कम करने और उससे बचने के लिए नियमों का पालन करना जरूरी है। बुखार, सर्दी, खांसी, हाथ-पांव में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, दम फूलना आदि लक्षण दिखने पर उसे छुपाने के बजाय तुरंत कोविड जांच करानी चाहिए। जल्द उपचार लेने पर मरीज खतरे से बाहर आएंगे। इसलिए लक्षण छुपाएं नहीं, जांच कराएं। 

छोटे बच्चों का ध्यान रखें : नागपुर महानगरपालिका और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के संयुक्त प्रयास से ‘कोविड संवाद’ फेसबुक लाइव में सोमवार को चिकित्सकों ने  नागरिकों से संवाद साधा। इस दौरान डॉ. मंजूषा गिरि भी उपस्थित थीं। डॉ. गावंडे ने कहा कि कोविड संकट में छोटे बच्चों का ध्यान रखें। बच्चों को वाहनों से बाहर की सैर कराने से परहेज करें। जिन वस्तुओं को सैनिटाइज करना संभव नहीं है, ऐसे वस्तुओं से दूरी बनाएं।  कोविड के एंटीजन और आरटीपीसीआर दो जांच किए जाते हैं। रिपोर्ट मिलते ही डॉक्टरों की सलाह अनुसार आवश्यक सावधानी बरतें। रिपोर्ट निगेटिव आने पर मुझे कुछ नहीं हो सकता, यह भावना न रखें। नियमों का ठीक से पालन ही, कोरोना से दूर रहना का मंत्र है।
 

कमेंट करें
YUdhm