comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मतदान के बाद एक्टिव हुए क्रिमिनल्स, सट्‌टा जुआ के लौटे पुराने दिन

मतदान के बाद एक्टिव हुए क्रिमिनल्स, सट्‌टा जुआ के लौटे पुराने दिन

डिजिटल डेस्क,नागपुर। चुनाव के दौरान शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस ने अपराधियों की धरपकड़ शुरु की थी। गली से लेकर कॉलोनियों तक में अपराधियों की खोजखबर ली। साफ है, पुलिस की एक्शन अपराधियों की बोलती बंद करा रही थी, लेकिन मतदान के बाद फिर से अपराधियों के पुराने दिन लौटते दिख रहे हैं। अपराधियों का गिरोह सक्रिय है। सट्‌टा जुआ का खेल फिर से पनपने लगा है। शहर के कुछ होटलों व आसपास के फार्महाऊस में बड़ी पार्टी का आयोजन होने लगा  है। हफ्ते भर का ही रिकार्ड देखा जाए तो शहर में अपराध के बढ़ते हुए तेवर का साफ अंदाजा हो जाता है। एक के बाद एक क्रिकेट बुकी पकड़े जा रहे है। बीयर बार में क्रिकेट सट्टा का अड्‌डा मिला है। 24 घंटे में हत्या की 4 वारदातें भी हुई है। अपराधियाें के बढ़ते हौंसलों का ही परिणाम माना जाये कि रात में पशु तस्कर बेखौफ वाहन दौड़ाते रहते हैं। पुलिस उनका पीछा करते रह जाती है। रात्रि गश्त , पेट्रोलिंग व नाकाबंदी की तमाम उपाय योजनाएं शिथिल सी हो गई है। जानकारों का कहना है कि चुनाव के दौरान पुलिस बंदोबस्त की जो स्थिति देखी गई वह हर समय देखने का मिलना चाहिए। 

शहर में हुई थी जमकर कार्रवाई
लोकसभा चुनाव के दौरान शहर में अपराधियों पर जमकर कार्रवाई हुई थी। पुलिस ने 1808 अपराधियों के विरुद्ध प्रतिबंधक, तड़ीपार व एमपीडीए की कार्रवाई की थी। स्लम क्षेत्र के बदमाशों को भी दबोचा गया। क्रिमिनल प्रोसिजर कोड सीआरपीसी की धारा 107 के अंतर्गत सर्वाधिक 638 कार्रवाई की गई। सीआरपीसी की धारा 110 के अंतर्गत 306,109 अंतर्गत 144 कार्रवाई की गई। मतदान तक 2 माह में 14 अपराधियों को तड़ीपार किया गया। एमपीडीए के तहत 3 अपराधियों के विरोध में कार्रवाई की गई। मोका की भी 3 कार्रवाई हुई। शस्त्र प्रतिबंधक कानून के तहत 72 से अधिक अपराधियों की धरपकड़ हुई। जुआं प्रतिबंधक कानून के तहत 220 जुआरी जेल भेजे गए। 

ग्रामीण में भी अपराधी नपे
ग्रामीण क्षेत्र में भी अपराधियों को बड़े पैमाने पर पकड़ा गया। चुनाव के लिए आचार संहिता लगने के बाद जिले में 2,117 अपराधियों के विरुद्ध प्रतिबंधक कार्रवाई की गई। कन्हान, खापरखेडा, कोंढाली, नरखेड, काटोल, खापा, मौदा में संवेदनशील क्षेत्रों पर ध्यान रखा गया। 45 अपराधियों को तड़ीपार करने व  2 के मामले में एमपीडीए का प्रस्ताव भेजा गया। 652 अपराधियों से बांड लिखवाया गया। जिले में 120 लाससेंसी शस्त्रधारक हैं। उनमें से 94 के शस्त्र जमा कराए गए। शस्त्रों में बंदूक शामिल है। 

अब क्या
मतदान के बाद लगभग हर क्षेत्र में अपराधी सक्रिय नजर आने लगे हैं। मतदान के पहले ग्रामीण पुलिस ने लाससेंसी बंदूके बरामद की। लेकिन मतदान के बाद खापरखेडा में दिनदहाड़े फायरिंग की घटना हुई। शहर में लगभग हर रोज सट्‌टा बुकी पकड़े जा रहे हैं। हत्या की वारदात बढ़ी हैं। 24 घंटे में हत्या की 4 वारदातों ने तो पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था पर ही सवाल उठा दिए है। तड़ीपार अपराधियों की तड़ीपारी कटने लगी है या फिर वे तड़ीपार रहते हुए ही शहर में सक्रिय है। अपराधियों की मस्ती पार्टी का खुले तौर पर आयोजन होने लगा है। 

लौट आया फातोड़े, आंबेकर भी बिंदास
स्टाइलिश गैंगस्टर की पहचान रखने वाले संजय फातोड़े तड़ीपार काटकर लौट आया है। गैंगस्टर संतोष आंबेकर भी खुले घूम रहा है। जमीन हड़पने के मामले में आंबेडकर व फातोडे का नाम एक साथ चर्चा में रहा है। आंबेकर से चुनाव के दौरान धारा 110 के तहत केवल बांड लिखवाया गया था। एक लाख रुपये का बांड लिखवाया गया जिसमें शर्त रखी गई कि अपराध किये जाने पर एक लाख रुपये सरकार के खाते में जमा हो जाएगी। आंबेकर कुछ राजनीतिक कार्यकर्ताओं के साथ फिर से सक्रिय है। फातोडे काे दो साल पहले तड़ीपार किया गया था। उसे अमरावती जिले में भेजा गया था। वह 27 अप्रैल को तड़ीपारी काटकर लौट आया है। अनिवासी भारतीय महिला की 8 करोड की संपति हड़पने के मामले में चर्चा में आया फातोडे आंबेकर के साथ भी प्रापर्टी मामले में फंसा था। बाउंसर की सुरक्षा में घूमनेवाल फातोड़े तब भी चर्चा में था जब मकोका मामले में रिहा होने पर उसे लिए लेने के लिए 50 से अधिक गाड़ियों का काफिला नागपुर जिल परिसर में पहुंचा था। फातोड़े ने नायक नहीं खलनायक हं के गाने पर डांस किया था। 

कमेंट करें
SImR1
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।