comScore

अस्पताल के शवगृह में मिला आईसीयू से ‘लापता’ बुजुर्ग का शव 

अस्पताल के शवगृह में मिला आईसीयू से ‘लापता’ बुजुर्ग का शव 

डिजिटल डेस्क, मुंबई। केईएम अस्पताल के आईसीयू से लापता हुए 67 वर्षीय कोरोना संक्रमित बुजुर्ग सुधाकर खाडे का शव अस्पताल के ही शवगृह में मिला है। अस्पताल से फोन करके परिवार को बताया गया था खाडे के बारे में पता नहीं चल रहा है 19 तारीख से ही उनकी तलाश की जा रही थी। आखिरकार 15 दिन बाद परिवार को उनका शव सौंप दिया गया। खाडे के दामाद अंकुश जाधव ने बताया कि मंगलवार को उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। उन्होंने अस्पताल से फोन आने के बाद जाकर शव की पहचान की जिसके बाद मृतदेह परिवार के हवाले कर दिया गया। 

जाधव ने बताया कि अस्पताल प्रशासन की ओर से उन्हें बताया गया की खाडे की मौत 20 मई को हुई थी। लेकिन उनके पास परिवार का कोई सदस्य मौजूद नहीं था। अस्पताल के कर्मचारियों की गलती से कागजों में हेरफेर हो गया जिसके चलते उनका शव नहीं मिल रहा था। खाडे के परिवार ने भोईवाड़ा पुलिस स्टेशन में उनकी गुमशुदगी की भी शिकायत दर्ज कराई थी। भाजपा नेता किरीट सोमैया के ट्वीट के बाद ये मामला सुर्खियों में आया था।

क्या है मामला
मुंबई के कालाचौकी इलाके में रहने वाले सुधाकर खाडे को 14 मई को तबीयत खराब होने के बाद केईएम अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जांच में साफ हुआ कि वह कोरोना संक्रमित हैं।18 मई को खाडे के दामाद अंकुश जाधव को अस्पताल की ओर से फोन आया जिसमें बताया गया खाडे की तबीयत ज्यादा खराब है, इसलिए उन्हें गहन चिकित्सा कक्ष(आईसीयू) में दाखिल किया जा रहा है। लेकिन अगले दिन साढ़े बजे सुबह जाधव ने जब फोन कर अपने ससुर का हालचाल जानने की कोशिश की तो उन्हें बताया गया खाडे का पता नहीं चल रहा है। बाद में परिवार वालों ने अस्पताल में जाकर पता लगाने की कोशिश की तो उन्हें मृतकों के शव दिखाए जाने लगे। लेकिन कोई भी शव खाडे का नही था। काफी कोशिशों के बाद भी जब खाडे का पता नहीं चला तो जाधव ने 25 मई को भोईवाड़ा पुलिस स्टेशन में उनकी गुमशुदगी की शिकायत की। 

कमेंट करें
N02jk