comScore

दिल्ली में कोरोना: प्रेस कांफ्रेंस में बोले CM केजरीवाल- कोरोना के केस बढ़े तो लगाना पड़ेगा लॉकडाउन

दिल्ली में कोरोना: प्रेस कांफ्रेंस में बोले CM केजरीवाल- कोरोना के केस बढ़े तो लगाना पड़ेगा लॉकडाउन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोनावायरस संक्रमण के बीच आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस काफ्रेंस आयोजित की। प्रेस काफ्रेंस के दौरान केजरीवाल ने कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर चिंता जताई। उन्होंने कहा, अगर ऐसे ही केस बढ़ते रहे और अस्पतालों के बेड में कमी आई तो दिल्ली में लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है।

वहीं, उन्होंने बीते 24 घंटो में कितने नए मामले मिले उसकी जानकारी भी दी। शनिवार को जारी हुई नई गाइडलाईंस के बारे में भी बताया। बता दें कि दिल्ली में बीते 24 घंटो में 10732 नए मामले मिले है, जो कोरोना के शुरूआती समय से अधिक है। जब कोरोना की शुरूआत हुई थी तब भी राजधानी दिल्ली में इतने मामले देखने को नहीं मिले जितने एक दिन में देखे जा रहे हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है की स्थिति कितनी ज्यादा गंभीर है।

कोरोना की चौथी लहर 
केजरीवाल ने कहा, कोरोना की चौथी लहर ज्यादा खतरनाक है। लोग चौथी लहर की तेजी से चपेट में आ रहे हैं। इसका असर सबसे ज्यादा युवाओं पर देखने को मिल रहा है। अगर हमने सावधानी नहीं बरती तो हालात और ज्यादा बिगड़ सकते है। उन्होंने आगे कहा कि लोगों को कोरोना से बचाने और कोरोना पर काबू पाने के लिए सरकार लगातार काम कर रही है। कोरोना से जल्दी राहत मिले इसके लिए दिल्ली सरकार तीन स्तरों पर काम कर रही है। पहला कैसे फैलने से रोके, दूसरा अस्पतालों का मैनेजमेंट और तीसरा वैक्सीनेशन कैसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को मिले।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कोरोना से बचने के लिए दिए सुझाव
मुख्यमंत्री ने जनता से आग्रह किया की बिना वजह के बाहर ना निकले और नियमों का सख्ती से पालन करें । उन्होंने कहा की कोरोना पर तभी काबू किया जा सकता है जब लोग सख्ती से नियमों का पालन करेंगे और सख्ती से रहेंगे। उन्होंने लोगों को सुझाव देते हुए कहा की सार्वजनिक कार्यक्रमों में जाने से बचे और निजी कार्यक्रमों कम से कम लोग शामिल हो। अधिक मात्रा में लोग एक जगह इक्ट्ठे ना हो। मुख्यमंत्री ने कहा की अगर हालात और ज्यादा बिगड़े तो सरकार को और अधिक कड़े नियम मजबुरीवश लागू करने पड़ेगें।

बेड के लिए ऐप का करें इस्तेमाल
अगर अस्पताल में बेड खाली नहीं मिल रहे है तो एप का इस्तेमाल करें। बता दें की छह महीने पहले दिल्ली सरकार ने एक एप बनाया था जिसमें अस्पतालों में बेड की संख्या कितनी है कहा कितने बेड खाली है, सब की जानकारी एप पर उपलब्ध है। अस्पताल मरीज को ले जाने से पहले एप पर देख ले। अस्पतालों में चक्कर नहीं काटें, दी गई सुविधा का उपयोग करें।

सरकारी अस्पतालों में कराए इलाज
केजरीवाल ने कहा की सरकारी अस्पतालों में भी जाए, वहां पर अच्छी सुविधाएं उपलब्ध है। मुख्यमंत्री ने लोगों से आग्रह किया की सरकारी अस्पतालों में जाकर इलाज करवाएं। उन्होंने आगे कहा की अधिकतर लोग निजी अस्पतालों में जाने की होड़ करते है, लेकिन आप दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में भी इलाज करवा सकते है, इलाज अच्छी तरह से होगा और सुविधाएं भी मिलेंगी।

अस्पतालों में स्थिति ज्यादा गंभीर होने पर ही आए
मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की सामान्य लक्षण होने पर खुद को घर में ही होम आइसोलेशन में रखे। ज्यादा समस्या होने पर ही अस्पताल आए। अगर सामानेय लक्षण वाले लोग भी अस्पताल आकर इलाज करवाने लगेंगे तो गंभीर मरीज कहा रखेंगे। उन्होंने लॉकडाउन की और इशआरा करते हुए कहा की अगर अस्पतालों में बेड भरे तो दिल्ली में लॉकडाउन लगाना संभव है । उन्होंने जनता से अनुरोध किया की जरूरत होने पर ही अस्पताल आए। मुख्यमंत्री ने जनता से अपील की कि सरकार का इस परिस्थिति में सहयोग करें और नियमों का पालन करें। 

हमारा देश कोरोना वैक्सीन का सबसे बड़ा उत्पादक
मुख्यमंत्री ने वैक्सीनेशन को लेकर कहा की हमारा देश कोरोना वैक्सीन का सबसे बड़ा उत्पादक है फिर भी हमारे देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे है। ऐसे में हमें युद्धस्तर पर पूरे देश में बिना किसी आयु सीमा के वैक्सीनेशन शुरू करना चाहिए। उन्होंने कहा जितनी तेजी से ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीनेषन दिया जाएगा उतनी तेजी से कोरोना मामलों को रोका जा सकता है। 

सीएम केजरीवाल ने बताया कि कल वह एलएनजेपी अस्पताल गए थे। वहां जिस तरह स्वास्थ्य कर्मी बिना अपनी जान की परवाह किए काम कर रहे है, में उन्हें सैल्युट करता हुं।केजरीवाल ने आग्रह किया कि स्वास्थ्यकर्मचारी तो अपना काम कर ही रहे हैं लेकिन जनता को भी इसमें पिछली बार की तरह अपनी भागीदारी देनी होगी।

कमेंट करें
GR5WI