comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Delhi Riots: हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल को शहीद का दर्जा देने की मांग, धरने पर बैठा परिवार

February 26th, 2020 10:56 IST
Delhi Riots: हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल को शहीद का दर्जा देने की मांग, धरने पर बैठा परिवार

डिजिटल डेस्क, सीकर। दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए पुलिस कॉन्स्टेबल रतन लाल (Police Constable Rattan Lal) के परिजन धरने पर बैठ गए हैं। परिवार ने मांग की है कि रतन लाल (Ratan Lal) को शहीद (Martyr) का दर्जा दिया जाए। दिल्ली के भजनपुरा (Bhajanpura) में हुई हिंसा में रतन लाल (Ratan Lal) की मौत हो गई थी। कॉन्स्टेबल रतन लाल राजस्थान के सीकर (Sikar) के रहने वाले थे। आज (बुधवार) उनके परिवार ने गांव जाने वाले रोड पर जाम लगा दिया। 

सीकर जाने वाली सड़क पर रतन लाल (Ratan Lal) के परिजन ने तीन किलोमीटर का रास्ता रोक दिया है। परिवार का कहना है जबतक रतन लाल को शहीद का दर्जा नहीं मिलेगा, वो अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। रतन लाल का पैतृक गांव फतेहपुर शेखावाटी के तिहावली में है। जहां परिवार के साथ गांववाले भी धरना दे रहे हैं। राजस्थान पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी धरने वाली जगह पर पहुंच गए हैं। वह परिवार को समझाने की कोशिश कर रहे हैं। पुलिस ने परिवार से धरना स्थल से हट जाने और रतनलाल (Ratan Lal) का अंतिम संस्कार करने की अपील की है। 

सुरक्षित रास्ता देने का निर्देश
दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाके में हुई हिंसा में घायलों के लिए सुरक्षित रास्ता देने की मांग करने वाली याचिका पर आधी रात को दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi HighCourt) के न्यायाधीशों जस्टिस एस. मुरलीधर और अनूप जे. भम्भानी ने सुनवाई की। आधी रात 12.30 बजे न्यायमूर्ति एस. मुरलीधर के आवास पर मीटिंग हुई। पीठ ने दिल्ली पुलिस को सभी संसाधनों को उपलब्ध कराके घायलों के लिए सुरक्षित मार्ग सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है, साथ ही उन्हें तत्काल इमरजेंसी उपचार मिलना सुनिश्चित कराने के लिए भी कहा। अदालत ने दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया है कि वह अनुपालन के संबंध में स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करे, जिसमें घायल लोगों के बारे में जानकारी और उन्हें दिए जाने वाले उपचार शामिल हैं। 

एनएसए अजीत डोवाल ने देर रात किया दौरा
वहीं भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल (Ajit Doval) ने देर रात हिंसाग्रस्त इलाकों का दौरा किया। बताया गया है कि एनएसए ने सीलमपुर में स्थिति का जायजा लिया और पुलिस के कई आला अफसरों के साथ बैठक भी की। इस बैठक में पुलिस आयुक्त, संयुक्त पुलिस आयुक्त, उपायुक्त (डीसीपी) समेत कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। डोभाल रात करीब साढ़े 11 बजे सीलमपुर डीसीपी कार्यालय पहुंचे और साढ़े 12 बजे तक बैठक के बाद करीब 8 किलोमीटर का सफर करते हुए सभी हिंसा ग्रस्त इलाकों का दौरा किया। वे भजनपुरा, यमुना विहार समेत कई इलाकों में भी गए। उन्होंने गाड़ी में बैठकर इन इलाकों का दौरा किया। इस बीच हिंसा प्रभवित इलाकों में प्रशासन ने कर्फ्यू लगा दिया है।

कमेंट करें
xS8lu
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।