सोनिया गांधी से शिकायत: नाना पटोले को पद से बर्खास्त करने की मांग 

February 1st, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर। कांग्रेस की छवि को लेकर भाजपा नेता ने चिंता जताई है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले के वक्तव्यों का जिक्र करते हुए भाजपा के प्रदेश महासचिव चंद्रशेखर बावनकुले ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है। पत्र में लोकतंत्र के संस्कार के संरक्षण का आह्वान करते हुए पटोले को पद से बर्खास्त करने की मांग की है। बावनकुले ने पत्र में कहा है कि, नाना पटोले के वक्तव्यों से समाज में शांतता बिगड़ रही है। अापके दल के साथ हमारा राजनीतिक व वैचारिक मतभेद हो सकते हैं  लेकिन राष्ट्रहित के लिए सभी मतभेद को अलग रखकर समृद्ध लोकतांत्रिक संस्कार के लिए एकत्र रहना जरूरी है। पटोले ने पहले दो विवादित वक्तव्य दिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में पटोले के अपमानजनक वक्तव्य का समाज ने निषेध किया। 

वध राक्षस का किया जाता है
अब महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर पटोले ने गैरजवाबदार बात कही है। पटोले ने कहा है कि, महात्मा गांधी का वध किया गया। वध राक्षस का किया जाता है, महापुरुष का नहीं। पटोले जैसे जवाबदार जनप्रतिनिधि को यह बात नहीं भूलनी चाहिए। दोनाें वक्तव्यों को लेकर पटोले ने माफी भी नहीं मांगी है। कांग्रेस पुराना राजनीतिक दल है।  प्रदेश अध्यक्ष प्रधानमंत्री और राष्ट्रपिता का अपमान करे और उस दल की ओर से सबकुछ स्वीकार कर लिया जाए, यह सामान्य नागरिकों को खटकनेवाला है। पटोले के विरोध में कांग्रेस ने संगठनात्मक कार्रवाई करना चाहिए।

पटोले पर राकांपा ने भी दागा सवाल- ‘भाऊ, ये भाजपा का संस्कार तो नहीं’
कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले के वक्तव्य को लेकर राकांपा ने भी सवाल दागा है। राकांपा की ओर से कहा गया है कि, पटोले का वक्तव्य उनके भाजपा के संस्कार से संबंधित तो नहीं है। पटोले के वक्तव्यों को लेकर राकांपा की ओर से पहले भी कांग्रेस पर सवाल दागे गए थे। फिलहाल राकांपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रवीण कुंटे ने ट्वीट कर कहा है- नाना भाऊ, महात्मा गांधी की हत्या को आपने वध कहा है। आपके इस वक्तव्य को आपकी जीभ फिसली समझा जाए या फिर भाजपा मेें लंबे समय तक रहने का संस्कार समझा जाए। कुंटे ने यह भी कहा है िक, पटोले को देश से माफी मांगना चाहिए। उनके दल को भी उन पर कार्रवाई करना चाहिए। कांग्रेस की छवि याद कराते हुए कहा गया है कि, कांग्रेस में अब तक कई प्रदेश अध्यक्ष हुए, लेकिन पटोले ने प्रदेश अध्यक्ष पद पर रहकर कांग्रेस की छवि खराब की है।