दैनिक भास्कर हिंदी: पानी से भरा तालाब, गंदगी बनी आम लोगों और जलीय जंतुओं के लिए खतरा

September 19th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर। पुलिस लाइन टाकली तालाब का वैसे तो कोई आधुनिक या मध्यकालीन इतिहास तो नहीं है, लेकिन यह क्षेत्र की दृष्टि से महत्व रखता है। किसी समय यहां गणेश विसर्जन सहित छठ पूजा भी होती थी, लेकिन आज यह प्रशासनिक उदासीनता की भेंट चढ़ा है। दो साल पहले यहां स्वच्छता अभियान चलाया गया था। अभियान भी सिर्फ नाम का रहा। सिर्फ तालाब के तट साफ कर नेता और अधिकारियों ने स्वच्छता अभियान की औपचारिकता पूरी कर ली। इसके बाद किसी ने इसे देखना भी मुनासिब नहीं समझा। अब यह अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है। तालाब ने बड़े कचरा घर का स्वरूप ले लिया है। लोग अपने घरों का कूड़ा-करकट यहां डाल रहे हैं। हालांकि प्रशासन ने चारों ओर से तालाब की बैरिकेडिंग कर दी है।

...और ज्यादा प्रदूषित हुआ तालाब
स्थानीय नाले का पानी लीकेज होने से तालाब में नाइट्रोजन और फॉस्फोरस की मात्रा अचानक बढ़ने से तालाब को जलकुंभी ने घेर लिया है। चारों ओर जलकुंभी नजर आती है। तालाब का पानी पहले से प्रदूषित था, जलकुंभी से और ज्यादा हो गया है।

जलस्रोतों के प्रभावित होने से इनकार नहीं 
तालाब में नाइट्रोजन और फॉस्फोरस बढ़ने से स्थानीय जलस्रोतों को भी खतरा निर्माण हो गया है। कुएं, बोरवेल जैसे जलस्रोत इससे प्रभावित होने की आशंका है। क्षेत्र की बढ़ रही आबादी को देखते हुए इसे गंभीर माना जा रहा है।

गंभीर बीमारियों का बढ़ा अंदेशा
मच्छरों और अन्य कीटों का यह पनाहगाह बन गया है। क्षेत्र में गंभीर बीमारियों के संक्रमण को नकारा नहीं जा सकता। स्थानीय स्तर पर लोगों ने अनेकों बार मनपा के संबंधित विभागों को इस बारे में आगाह किया है, लेकिन कोई असर नहीं पड़ा है। 

होना यह चाहिए
जलीय जंतुओं को बचाने और जीवनचक्र को व्यवस्थित करने के लिए तालाबों में नियमित रूप से पानी परिवर्तन के माध्यम से अतिरिक्त नाइट्रोजन और फास्फोरस का निपटारा किया जाना चाहिए। 

...और हुआ यह
लोगों ने वर्तमान में वहां सीवरेज भी जोड़ दिए हैं। दो साल पहले सफाई के लिए यहां पोकलेन की सहायता ली गई थी, लेकिन चिकनी मिट्टी होने के चलते पोकलेन फंस गया और काम रोक देना पड़ा।

नगरसेविका रश्मि धुर्वे के मुताबिक पुलिस लाइन टाकली तालाब के सौंदर्यीकरण का प्रस्ताव तैयार किया गया है। केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी से इस संबंध में चर्चा भी हुई थी। यह उनका ड्रीम प्रोजेक्ट है। सौंदर्यीकरण कर वहां बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक के लिए सुविधा उपलब्ध कराने की योजना है। फिलहाल विसर्जन को देखते हुए तालाब को बंद कर दिया गया है। 

खबरें और भी हैं...