दैनिक भास्कर हिंदी: चुनाव आयोग करे सरपंच पद की नीलामी मामले की जांच

December 30th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई।   प्रदेश के ग्रामीण विकास मंत्री हसन मुश्रीफ ने ग्राम पंचायतों के चुनाव में सरपंच पद की नीलामी के मामले की राज्य चुनाव आयोग से जांच की मांग की है। उन्होंने इस संबंध में चुनाव आयोग को पत्र लिखा है। बुधवार को मुश्रीफ ने कहा कि सरपंच पद के चुनाव के लिए बोली लगाने की घटना लोकतंत्र के लिए घातक है। यदि सरपंच पद की बोली लगाई गई तो पैसे वाले लोग ही जीतेंगे। गरीब और अच्छे सामाजिक कार्यकर्ता चुनाव जीत नहीं पाएंगे।   मुश्रीफ ने कहा कि ग्राम पंचायतों के चुनाव में सरपंच पद का निर्वाचन निर्विरोध चुने जाने के बाद विकास के लिए निधि देना अलग बात है लेकिन सरपंच पद के लिए लाखों रुपए की बोली लगाना उचित नहीं है। 

क्या है मामला
इससे पहले नाशिक के देवली तहसील के उमराणे ग्राम पंचायत के सरपंच पद के लिए नीलामी का वीडियो वायरल हुआ था। जिसमें सरपंच पद के लिए उमराणे ग्राम पंचायत के पूर्व सरपंच प्रशांत देवरे के नेतृत्व वाले पैनल के लिए 2 करोड़ 5 लाख रुपए की बोली लगाई गई थी। नीलामी प्रक्रिया के बाद उमराणे ग्राम पंचायत का चुनाव निर्विरोध करने की घोषणा की गई।