दैनिक भास्कर हिंदी: रेडक्रॉस अस्पताल के निजीकरण से कर्मचारी नाराज, विरोध में कलम बंद हड़ताल

August 1st, 2017

डिजिटल डेस्क,भोपाल। राजधानी के रेडक्रॉस अस्पताल को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी की जा रही है। इसके विरोध में कर्मचारियों ने कलम बंद हड़ताल की और जमकर हंगामा किया। कर्मचारियों का कहना है कि प्रबंधन ब्लड बैंक की तरह रेड क्रॉस अस्पताल को भी आउटसोर्स करने की तैयारी में है। अगर ऐसा होता है तो फिर रेड क्रॉस में इलाज कराना महंगा हो जाएगा।

गौरतलब है कि भोपाल में रेड क्रॉस अस्पताल का संचालन कई सालों से किया जा रहा है। इस अस्पताल की खासियत है कि यह 'नो प्रोफिट नो लॉस' के आधार पर चलाया जा रहा है। कई कर्मचारी सालों से यहां पर काम कर रहे हैं, लेकिन अब इस अस्पताल को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी की जा रही है। इस कारण से यहां काम करने वाले कर्मचारियों की नौकरी पर खतरा मंडरा रहा है। हॉस्पिटल को निजी हाथों में सौंपने के विरोध में सोमवार को कर्मचारियों ने कलम बंद हड़ताल की और अपनी मांगें प्रबंधन के सामने रखीं। कर्मचारियों का कहना है कि अगर यह अस्पताल निजी हाथों में जाता है तो फिर इस अस्पताल में इलाज महंगा हो जाएगा और गरीबों के लिए इलाज करवा पाना संभव नहीं होगा।

वहीं प्रबंधन का कहना है कि अस्पताल को आउटसोर्स करने की सूचना गलत है। अस्पताल को निजी हाथों में नहीं सौंपा जा रहा है। कुछ दिन पहले ही रेड क्रॉस के ब्लड बैंक और पैथोलॉजी को निजी हाथों में सौंप दिया गया है। साथ ही रेड क्रॉस अस्पताल की जमीन पर सिद्दांता सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का भी निर्माण किया गया है।