अनदेखी: प्लांटेशन की भूमि पर अतिक्रमण खेत बना लिया

January 6th, 2022

डिजिटल डेस्क, एटापल्ली (गड़चिरोली)।  तहसील मुख्यालय से महज 5 किमी दूर वनविभाग की आरक्षित भूमि पर अतिक्रमण का मामला उजागर हुआ हैै। प्लांटेशन की भूमि पर कुछ अतिक्रमण धारकों ने अवैध रूप से ट्रैक्टर चलाकर इस भूमि को खेत में तब्दील  कर दिया है। यह कार्य पिछले 15 दिनों से जारी होने के बाद भी अब तक विभाग द्वारा संबंधितों के खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई नहीं किए जाने से आश्चर्य व्यक्त किया जा रहा है। वनविभाग की इस तरह की लगातार अनदेखी के कारण तहसील में वनभूमि पर अतिक्रमण के मामले भी अब बढ़ने लगे हंै।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, एटापल्ली वनविभाग के वन परिक्षेत्र कार्यालय की ओर से तहसील मुख्यालय से महज 5 किमी दूर एकरा बीट में कुछ वर्ष पूर्व प्लांटेशन किया गया। दर्जनों हेक्टेयर वनभूमि में विभाग ने विभिन्न तरह के पौधों का रोपण किया था,  जिसमें प्रमुखता से बांस, सागौन और अन्य प्रकार के पौधों का समावेश था। एकरा बीट एटापल्ली-कसनुसर महामार्ग से सटा होने के कारण यहां कोई भी वनाधिकारी आसानी से पहुंच सकता है। पिछले 15 दिनों से कुछ अतिक्रमण धारकों ने अवैध रूप से इस आरक्षित भूमि पर अतिक्रमण किया। साथ ही धड़ल्ले से प्लांटेशन के सारे पौधों को ट्रैक्टर की मदद से पूरी तरह नष्ट किया गया। वर्तमान में यह भूमि पूरी तरह खेत में तब्दील  हो गयी है। कुछ माह पूर्व हरे-भरे पौधों से लहलहा रही यह भूमि अब पूरी  तरह उजाड़ दिखायी दे रही है। बता दें कि, वनों की सुरक्षा और उनका संवर्धन करने की जिम्मेदारी वनविभाग पर है। आरक्षित वनभूमि पर इस तरह का अतिक्रमण करना गैरकानूनी है।

 बावजूद इसके क्षेत्र के कुछ अतिक्रमण धारकों के हौसले बढ़ने लगे हंै। अतिक्रमण का यह मामला जब वनविभाग कार्यालय पहुंचा, तो वनाधिकारियों में खलबली मच गयी है। बावजूद इसके अब तक कोई वनाधिकारी घटनास्थल पर पहुंच नहीं पाया है। इस मामले की गंभीरता से जांच कर दोषी अतिक्रमण धारकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग एटापल्ली तहसील वासियों ने की है।