comScore

नागपुर में सारी का हर सातवां और फ्लू का हर सोेलहवां मरीज कोरोना पॉजिटिव

नागपुर में सारी का हर सातवां और फ्लू का हर सोेलहवां मरीज कोरोना पॉजिटिव

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर में सारी का हर 7वां मरीज और इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस (आईएलआई) का हर 16वां मरीज कोराेना पॉजिटिव मिल रहा है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के आंकड़ों पर गौर करें तो नागपुर जिले में 1582 सारी के मरीज में 241 और 3451 फ्लू के मरीज में 210 कोरोना संक्रमित मिले हैं। राज्य की तुलना में नागपुर में सारी और फ्लू के मरीजों में अपेक्षाकृत कम संक्रमण मिला है। हालांकि, ये आंकड़े मई माह तक के हैं। महाराष्ट्र में हर तीसरा आईएलआई रोगी और हर 5वां गंभीर सांस रोगी कोरोना संक्रमित मिल रहा है। आईसीएमआर के अनुसार जनवरी से अब तक 1,69,200  लोगों की जांच में  कुल 22,806  सांस रोगी संक्रमित मिले। वहीं 4,09,672 आईएलआई रोगियों में 40,871 संक्रमित हैं। महाराष्ट्र में 35,448 में से 9715 सांस रोगी पॉजिटिव मिले हैं। 49,503 में से 16,966 फ्लू मरीज संक्रमित मिले।

प्रतिबंधित क्षेत्रों में जांच के निर्देश
आईसीएमआर की ओर से नागपुर सहित देश भर के प्रतिबंधित क्षेत्रों (कंटेनमेंट जोन) और बफर जोन में गंभीर सांस रोगियों और फ्लू (बुखार, कफ आदि से पीड़ित) के मरीजों की कोरोना जांच के दिशा-निर्देश दिए गए हैं। इसी के तहत 22 जनवरी से जांच चल रही है। अभी तक गंभीर सांस रोगियों में संक्रमण की दर 13.47 और फ्लू ग्रस्त रोगियों में 9.97 फीसदी दर्ज की गई है।

 मनपा ने चलाया था विशेष अभियान
शहर में सभी हॉटस्पॉट में दूसरी बीमारियों के मरीजों में कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए मनपा की ओर से बड़े स्तर पर जांच अभियान चलाया गया था। इसके तहत मधुमेह, उच्च रक्तचाप समेत गर्भवती महिलाओं की उनके घर में ही कोरोना जांच की गई थी। यहां तक कि शासकीय अस्पताल में पहुंचने वाले हर सारी मरीज की कोरोना जांच की जा रही है।

इन राज्यों में स्थिति गंभीर
महाराष्ट्र के अलावा दिल्ली और गुजरात मेें भी सारी और फ्लू के मरीजों में बड़े स्तर पर कोरोना संक्रमण मिला है। तीन राज्यों के अलावा पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में गंभीर सांस रोगी तो तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी में इन्फ्लूएंजा फ्लू के मरीजों में सबसे ज्यादा संक्रमण मिला है

मुंबई की तुलना में नागपुर में कम है दर
प्रतिदिन कोरोना समेत अन्य तथ्यों की जानकारी स्थानीय स्वास्थ्य सेवा केंद्र  राज्य सरकार के जन स्वास्थ्य विभाग को भेज रहे हैं। इस तरह का डेटा एनालिसिस राज्य स्तर पर हो रही है। सारी व फ्लू के मरीजों के कोविड-19 पॉजिटिव आने की दर मुंबई की तुलना में नागपुर में कम है। वायरस से संबंधित संक्रमण जब तक अपर रेसिपिरेट्री यानी लैरिंग्स ग्रंथी के ऊपर रहता है वह फ्लू जैसा लक्षण माना जाता है। जब संक्रमण सांस की नली और फेफड़े तक पहुंच जाता है तो उसे सारी जैसे लक्षण माना जाता है। 
-डॉ. सुशांत मेश्राम, जीएससी पल्मोनरी 
मेडिसिन विभाग के प्रमुख

कमेंट करें
3Nic8