दैनिक भास्कर हिंदी: राणे के एक तीर से दो निशाने : कहा- सत्ता और पैसों के लिए शिवसेना और भाजपा एक साथ 

March 31st, 2019

हाईलाइट

  • सामने आई नारायण राणे की नाराजगी
  • पैसों के लिए साथ आए भाजपा-शिवसेना- राणे
  • राणे ने कहा, पांच सालों तक भाजपा को भला-बुरा कहती रही शिव सेना

डिजिटल डेस्क, मुंबई। भाजपा और शिवसेना गठबंधन (युति) के बाद अलग-थलग पड़े महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष के मुखिया व सांसद नारायण राणे की नाराजगी सामने आई है। रविवार को रत्नागिरी में राणे ने कहा कि शिवसेना अपने स्वार्थ के लिए भाजपा के साथ आई है। भाजपा और शिवसेना सत्ता और पैसों के लिए एक साथ हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोई विकास काम और परियोजना न लाने के कारण जनता के ध्यान को भटकाने के लिए भाजपा और शिवसेना आपस में लड़ती रहीं। लोकसभा चुनाव के घोषणा के बाद दोनों दलों ने गठबंधन कर लिया और गले में गला डालकर घूम रहे हैं।

राणे ने कहा कि शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पांच साल तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर हमले किए। भाजपा नेताओं पर निचले स्तर तक जाकर टिप्पणी की। इसके बाद अब शिवसेना ने अपने स्वार्थ के लिए भाजपा के साथ गठबंधन करने का फैसला कर लिया। राणे की पार्टी महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष भाजपा की सहयोगी है, लेकिन भाजपा और शिवसेना का गठबंधन होने के बाद राणे ने अलग चुनाव लड़ने का फैसला किया है। राणे के बड़े बेटे नीलेश राणे रत्नागिरी-सिंधुदुर्ग सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।

 

 

 

 

 

खबरें और भी हैं...