दैनिक भास्कर हिंदी: मोहन भागवत बोले- RSS का विस्तार करना जरूरी

January 21st, 2019

डिजिटल डेस्क, अमरावती। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि RSS का विस्तार करना जरूरी है। वे बडनेरा रोड स्थित सिपना अभियांत्रिकी महाविद्यालय समीप 27 एकड़ के प्रांगण में विगत तीन दिनों से जारी  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रवासी कार्यकर्ता शिविर के  समापन अवसर पर बोल रहे थे। शिविर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने संघ के मौजूद 5 हजार कार्यकर्ताओं का बौद्धिक मार्गदर्शन किया। इस समय भव्य पंडाल में 5 हजार कार्यकर्ता गणवेश में मौजूद थे। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि भविष्य में संघ का विस्तार करना जरूरी है।

अपने आचरण से ही संघ की उन्नति होगी। संघ के बारे में कौन क्या कहता है और किस दृष्टि से देखा जाता है, इसे महत्व न दिया जाए। इस तीन दिवसीय प्रवासी कार्यकर्ता शिविर में सरसंघचालक मोहन भागवत ने किसी भी राजनीति पर चर्चा नहीं की। कार्यकर्ताओं को मार्गदर्शन करने के पश्चात संघ की प्रार्थना बोली गई व 27 एकड़ के क्षेत्र में ही बनाया गया मुक्तागिरी भवन में सरसंघचालक मोहन भागवत ने कार्यकर्ताओं के साथ भोजन किया व मौजूद 5 हजार कार्यकर्ताओं को 35 हजार तिल्ली के लड्डू सहित अंबादेवी व एकवीरा देवी के प्रसाद का वितरण किया गया। इसके पश्चात अंतिम चरण में सरसंघचालक मोहन भागवत ने संघ के प्रमुख पदाधिकारियों के साथ कुछ समय बैठक लेते हुए दिशा निर्देश दिए व अमरावती से गुरुकुंज मोझरी की ओर निकल गए।

गुरुकुंज आश्रम में बिताए डेढ़ घंटे 
अमरावती के कार्यकर्ता शिविर के समापन के पश्चात सरसंघचालक मोहन भागवत ने गुरुकुंज आश्रम पहुंचे। जहां राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज की महासमाधि के दर्शन किए। कुल डेढ़ घंटे गुरुकुंज आश्रम में बिताते हुए अखिल भारतीय गुरुदेव सेवा मंडल के महासचिव जनार्दन बोथे से भागवत ने आश्रम परिसर की संपूर्ण जानकारी ली। मोहन भागवत ने ध्यान योग मंदिर में प्रवेश किया व आश्रम के परिसर की स्वच्छता की काफी सराहना की। गुरुदेव सेवा मंडल के केंद्रीय कार्यालय ने सरसंघचालक मोहन भागवत को ग्रामगीता ग्रंथ भेंट कर उनका सत्कार किया। इस समय प्रकाश महाराज वाघ, लक्ष्मण गमे, दामोधर पाटिल, एड. दिलीप कोल्हे, राजाराम बोथे, घनश्याम पिकले सहित अन्य सदस्य मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...