comScore

कोरोना से बचने मुंबई से नागपुर आया परिवार, महिला निकली पाजिटिव

कोरोना से बचने मुंबई से नागपुर आया परिवार, महिला निकली पाजिटिव

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मुंबई में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण से बचने के लिए वहां का 12 सदस्यीय परिवार 6 जून सुबह 11 बजे वाड़ी पहुंचा। उसी दिन दोपहर करीब 2 बजे मुंबई से आये एक कॉल ने पूरे परिवार को परेशानी में डाल दिया। फोन पर सूचना दी गई कि उस परिवार की एक 38 वर्षीय महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इतना सुनते ही पूरे परिवार में खलबली मच गई। उन्होंने वाड़ी के ही एक निजी डॉक्टर को दिखाया। वहां से सीधे मेडिकल जाने की सलाह दी गई। मेडिकल में जांच के बाद महिला को पॉजिटिव पाया गया। उसके बाद उसे कोविड वार्ड में भर्ती कर लिया गया है। उधर, वाड़ी स्थित दवलामेटी के वार्ड नंबर-3 के पुरुषोत्तम नगर के 2 रास्तों को सील करते हुए वहां पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। साथ ही, परिवार के अन्य सदस्यों को वाठोड़ा स्थित सेंटर में क्वारेंटाइन किया गया है।

रात को अफसरों का जमावड़ा
पीआई राजेन्द्र पाठक, तहसीलदार मोहन टिकले, बीडीओ किरण कोवे, पंचायत समिति सदस्य सुधीर करंजिकर, ग्राम विस्तार अधिकारी विष्णु पोटभरे, उप सरपंच गजानन रामेकर, पूर्व सरपंच संजय कपनिचोर आदि 6 जून की देर रात तक पुरुषोत्तम नगर में ही डटे रहे। अब पॉजिटिव आई महिला ठीक है।  

वाड़ी आई थी भाई के घर
मुंबई के दहिसर निवासी 38 वर्षीय महिला अपने पूरे परिवार के साथ 5 जून को गाड़ी रिजर्व कर वाड़ी के लिए चली थी। 6 जून को यहां पहुंची। यहां वाड़ी के पुरुषोत्तम नगर में उसके भाई रहते हैं। बताया जाता है कि मुंबई में महिला व परिवार को होम क्वारेंटाइन रहने की सलाह दी गई थी। साथ ही, महिला का नमूना मुंबई में ही लिया गया था। उसकी रिपोर्ट 6 जून को आई तो फोन पर अस्पताल वालों ने सूचना दी। तब तक परिवार वाड़ी पहुंच चुका था। इसी सूचना ग्राम पंचायत को मिली तो खलबली मच गई। 

बचने के लिए आई थी, मैं ही शिकार हो गई
पॉजिटिव मिली महिला ने बताया कि मुंबई में मेरे पिताजी की तबीयत ठीक नहीं है। वहां का घर बहुत छोटा था, इसलिए असुविधा हो रही थी। यहां मेरे भाई का घर है। कोरोना से बचने के लिए मैं परिवार सहित यहां पहुंची, पर मैं ही संक्रमण की शिकार हो गई हूं। मैं खुद अस्पताल गई और भर्ती हो गई हूं। मैं ठीक हूं। मेरा पूरा परिवार क्वारेंटाइन है। 
 

कमेंट करें
rvWPH