दैनिक भास्कर हिंदी: स्कूल बस हादसे में 4 बच्चों की मौत, दान की गईं बच्चों की आंखें

January 6th, 2018

डिजिटल डेस्क,इंदौर। शुक्रवार को इंदौर में बायपास रोड पर स्कूल बस और ट्रक के बीच हुई भिंड़त में 4 घरों के चिराग बुझ चुके हैं। हादसे की खबर लगते ही हर शख्स सिहर सा गया। इंदौर शहर में घटना की जानकारी लगते ही सन्नाटा सा छा गया। घटना में जान गंवाने वाले बच्चों के परिजनों को अभी भी यकीन नहीं हो पा रहा है कि उन्होंने जिन बच्चों को स्कूल भेजा था अब वो कभी लौटकर नहीं आएंगे। वहीं जिन बच्चों की जान बच गई उनके परिजन भगवान का शुक्रिया अदा कर रहे हैं, लेकिन कहीं न कहीं उनके दिलों में भी हादसे को लेकर दुख है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस हृदय विदारक घटना को लेकर दुख प्रकट किया  है।

                                                   

 

हादसे के लिए स्कूल जिम्मेदार
इंदौर स्कूल बस हादसे की जांच रिपोर्ट से संज्ञान में आये तथ्यों में स्पष्ट तौर पर डीपीएस स्कूल प्रबंधन की लापरवाही पाई गई है। मृतक ड्राइवर द्वारा बस में तकनीकी खराबी की शिकायत की गई थी, लेकिन स्कूल प्रबंधन ने मेंटेनेन्स की अनदेखी कर गम्भीर लापरवाही बरती है। साथ ही जांच रिपोर्ट में आए तथ्यों के आधार पर स्पष्ट हो रहा है कि हादसे के वक्त बस की स्पीड 80 किलोमीटर प्रतिघंटा थी। इसके लिए स्पीड गवर्नर कंपनी को कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने डीआईजी इंदौर को तुरंत कार्रवाई करने के लिए निर्देशित किया है। 
 

 

 

 

इंदौर में आधे दिन बंद रहे बाजार

वहीं हादसे के बाद से पूरा शहर गमगीन है। इसी के चलते व्यापारी संगठनों ने शोक स्वरुप अपने बाजार आधे दिन बंद रखने का ऐलान किया था। सियागंज व्यापारी एसोसिएशन के अध्यक्ष रमेश खंडेलवाल के मुताबिक हादसे मृत बच्चों के शोक और परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए पूरा बाजार शनिवार दोपहर दो बजे तक बंद रहेगा। इसके अलावा कई संगठनों ने बंद में समर्थन दिया ।

 




दान की गई बच्चों की आंखें और स्किन


इंदौर में बायपास रोड पर स्कूल बस और ट्रक की भीषण टक्कर में 4 बच्चों समेत ड्राइवर की मौत हो गई। इस दर्दनाक हादसे से हर कोई सिहर गया, लेकिन अब एक और दिल को छू लेने वाली खबर आई है। बताया जा रहा है कि हादसे में जान गंवाने वाली छात्रा कृति अग्रवाल के परिजनों ने अपनी बेटी की आंखें और स्किन डोनेट कर दी है। गौरतलब है कि कृति अग्रवाल लोहा व्यापारी एसोसिएशन के सदस्य प्रशांत अग्रवाल की बेटी है। हादसे में बेटी की जान जाने के बाद उन्होंने बेटी की आंखें और स्किन डोनेट करने का फैसला लिया। परिजनों का कहना है कि अब उनकी बेटी तो वापस नहीं आ सकती है, लेकिन उसकी आंखों और स्किन से किसी दूसरे की जिंदगी रोशन हो सकती है। वहीं एक और छात्रा श्रुति लुधियानी के परिजनों ने भी उनके श्रुति की आंखें डोनेट कर इंसानियत की एक अनूठी मिसाल कायम की है। साथ ही स्वास्तिक के परिजनों ने भी आंखें दान कर किसी की जिदंगी रोशन करने का फैसला लिया है।

 

                                                इंदौर बस हादसा

 


बता दें कि बिचौली मर्दाना के पास स्थित पुल के पास DPS स्कूल की बस (एमपी-09 एफए-2029) और ट्रक की आमने-सामने टक्कर हुई। टक्कर के समय बस में स्कूल के बच्चे और टीचर सवार थे। इस भीषण टक्कर में 4 स्कूली बच्चों की मौत हो गई। वहीं इस घटना में 10 से ज्यादा बच्चों के घायल होने की जानकारी है। जानकारी के अनुसार बस में 20 बच्चे सवार थे। वहीं पुलिस के मुताबिक बस भोपाल रोड से महू की तरफ आ रही थी और ट्रक महू से भोपाल की तरफ जा रहा था। इसी दौरान अचानक बस पर से चालक का नियंत्रण हट गया और बस रेलिंग पर चढ़ी और ट्रक से टकरा गई।

                                                    इंदौर एक्सीडेंट स्कूल के लिए इमेज परिणाम

 

सीएम शिवराज ने जताया दुख


इस दर्दनाक हादसे पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी दुख प्रकट किया। सीएम ने भी ट्वीट में कहा कि इंदौर में हुई सड़क दुर्घटना में स्कूली बच्चों के निधन का समाचार हृदय विदारक है। मन अत्यधिक पीड़ा से भरा है। ईश्वर से मासूम बच्चों की आत्मा को अपने चरणों में स्थान देने की प्रार्थना करता हूं। विनम्र श्रद्धांजलि!

 

 
 

 

 

 

देखने वाली बात होगी कि इस हादसे के बाद महकमा कितना सजग होता है। हादसे में जान गंवाने वाले बच्चे तो वापस नहीं आ सकते हैं, लेकिन भविष्य में ऐसे हादसों को रोका जा सकता है और किसी के घर के चिराग को बचाया भी जा सकता है।