comScore

शर्तों में फिर उलझे किसान, कर्ज लेने के पहले देनी होगी NOC

शर्तों में फिर उलझे किसान, कर्ज लेने के पहले देनी होगी NOC

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  सरकार भले ही फसल कर्ज लेते समय एनओसी या अनापत्ति प्रमाणपत्र नहीं देने की बात करे, लेकिन बैंक पहुंच रहे किसानों से नो ड्यूज सर्टिफिकेट की मांग की जा रही है। जिले में हर तहसील व पंचायत समिति स्तर पर नागपुर जिला मध्यवर्ती सहकारी (एनडीसीसी) बैंक की शाखाएं है और एनडीसीसी का रिकार्ड सिबिल में नहीं दिखाई देता। 

राज्य के कृषि मंत्री दादाजी भुसे ने कहा कि फसल कर्ज लेते समय किसानों से अन्य बैंकों की एनओसी या नो ड्यूज सर्टिफिकेट नहीं मांगी जाए।  जो बैंक इस तरह के सर्टिफिकेट मांगेगी, उस पर कार्रवाई करने के निर्देश भी जिला प्रशासन को दिए। इधर राष्ट्रीयकृत बैंकों में फसल कर्ज लेने जा रहे किसानों को नो ड्यूज सर्टिफिकेट मांगे जा रहे है। किसान जिस तहसील या पंचायत समिति क्षेत्र में रहता है, वहां एनडीसीसी बैंक की शाखाएं है। किसान एनडीसीसी बैंक से भी फसल कर्ज लेते हैं। एनडीसीसी बैंक का कर्ज किसानों के सिबिल में दिखाई नहीं देता, इसलिए जहां-जहां एनडीसीसी बैंक की शाखाएं है, वहां के किसानों को नो ड्यूज सर्टिफिकेट मांगे जा रहे है। एनडीसीसी बैंक ने कर्जदार किसानों की सूची लीड बैंक या राष्ट्रीयकृत बैंकों से साझा नहीं की है। 
 
गलत नहीं एनओसी की मांग
अधिकांश किसान एनडीसीसी बैंक से फसल कर्ज लेते हैं। एनडीसीसी बैंक की शाखा हर तहसील, पंचायत समिति व बड़े गांवों में है। किसान जहां रहता है, वहां अगर एनडीसीसी बैंक है, तो उसे नो ड्यूज सर्टिफिकेट देना होगा। राष्ट्रीयकृत बैंक कर्ज मांगने वालों का सिबिल देखती है, लेकिन एनडीसीसी बैंक से कर्ज लिया तो भी सिबिल में नहीं दिखता, इसलिए राष्ट्रीयकृत बैंक सर्टिफिकेट मांगती है। एनडीसीसी बैंक अगर उनके कर्जदाता किसानों की सूची दे, तो फिर सर्टिफिकेट मांगना बंद हो सकता है। 
-विजयसिंह बैस, प्रबंधक, जिला अग्रणी बैंक नागपुर

कमेंट करें
iqWun