सरकारी ने मांगी रिपोर्ट: बेमौसम और ओलावृष्टि से मुश्किल में किसान

January 13th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर । जिले में हुई बेमौसम बारिश व ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। पालकमंत्री नितीन राऊत ने इस नुकसान का पंचनामा करने का निर्देश दिया है। जिले से प्राथमिक रिपोर्ट मंगाई गई है। राज्य के पशुसंवर्धन व दुग्धविकास मंत्री सुनील केदार नुकसानग्रस्त क्षेत्रों में जाकर स्थिति का जायजा लेंगे। 

8334 खाताधारकों पर मुसीबत
जिलाधिकारी आर. विमला ने मंगलवार शाम को इस संदर्भ में रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए थे। बुधवार देर शाम को रामटेक, सावनेर, नागपुर ग्रामीण, कामठी, पारशिवनी तहसील में हुए नुकसान के आंकड़े जिलाधिकारी कार्यालय को प्राप्त हुए। इसमें करीब 7 हजार 431 हेक्टेयर क्षेत्र में कपास, गेहूं, हरभरा, तुअर, सब्जीभाजी व फलों की फसलों को नुकसान का दावा किया गया है। 8 हजार 334 खाताधारकों को इस ओलावृष्टि का नुकसान हुआ है। सर्वाधिक नुकसान डेढ़ हजार हेक्टेयर में तुअर को हुआ है। 

अनेक तहसील प्रभावित 
मौसम विभाग के अनुमान के अनुसार जिले में ओलावृष्टि के संकेत दिए गए थे। सर्वाधिक नुकसान सावनेर, कामठी, पारशिवनी, रामटेक तहसील में रबी फसलों को हुआ। बेर और आंवला के आकार के ओले कुछ क्षेत्रों में गिरे। लगभग एक घंटा मंगलवार को बारिश ने धूम मचाई, जिस कारण बड़े पैमाने पर किसानों को झटका लगा। जिलाधिकारी ने मंगलवार शाम को रिपोर्ट मांगी थी। पालकमंत्री ने पंचनामे के आदेश दिए। गुरुवार को पशुसंवर्धन मंत्री केदार नागपुर तहसील के बोखारा, गुमथला, बैलवाडा, कामठी तहसील के गुमती, लोणखेरी, खापा, सावनेर तहसील के दहेगांव, पारशिवनी तहसील के इटगांव, भागीमहारी, रामटेक तहसील के जमुनिया, टूयापार, घोटी आदि क्षेत्रों में भेंट देंगे।