दैनिक भास्कर हिंदी: मत्स्य उत्पादन से मिलेगी ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती : केदार  

June 19th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  पशुसंवर्धन मंत्री सुनील केदार ने कहा कि कोरोना से कमजोर हुई ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने के लिए मत्स्य उत्पादन व मछली पालन  पर जोर दिया जाएगा। श्री केदार ने महाराष्ट्र पशु व मत्स्य विज्ञान विद्यापीठ (माफसू) में कामकाज की समीक्षा करने के बाद कहा कि  (माफसू) ग्रामीण अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए किसानों को पूरक आर्थिक आय का स्रोत उपलब्ध कराना जरूरी है।  मत्स्य संवर्धन व मछलीपालन को और मजबूत किया जाएगा।  कोविड-19 से शहरी व ग्रामीण अर्थव्यवस्था कमजोर हुई है। मछली पालन  आर्थिक स्रोत का जरिया बनेगा। किसानों ने मछली पालन व व्यवसाय पर ध्यान देना जरूरी है। 

तैयार होगा मानव बल
उन्होंने  प्रजननक्षम मछलियों का प्रबंधन व गुणवत्ता वृद्धि के लिए माफसू को टाक्स फोर्स बनाकर एक साल में रिपाेर्ट पेश करने के निर्देश दिए। मोबाइल मत्स्य बिक्री संच निर्मिति (एक प्रकार का उपकरण) पर संतोष जताते हुए प्रायोगिक तत्वों पर ये  संच उपलब्ध कराने को कहा। कौशल विकास व उद्योजकता अभियान में मत्स्य संवर्धन विषय को शामिल कर प्रशिक्षित मानव बल तैयार किया जाएगा। इस दौरान मत्स्य विज्ञान विद्यापीठ के कुलगुरु ए. एम. पातुरकर, अधिष्ठाता ए. पी. सोनकुवर, कुलसचिव चंद्रभान पराते, विदर्भ मच्छीमार संगठन के अध्यक्ष श्री लोणारे व अन्य प्रतिनिधि उपस्थित थे।