दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर फ्लाइंग क्लब से नए साल से प्रशिक्षण में हो सकती है उड़ान

July 16th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। उच्च न्यायालय के आदेश के बाद विभागीय आयुक्त ने नागपुर फ्लाइंग क्लब के लिए मुख्य उड़ान निदेशक (चीफ फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर) के लfए नियुक्ति पत्र जारी कर दfया है। इससे भले ही फ्लाइंग क्लब शुरू होने की चर्चाएं तेज हो गई हैं, लेकिन जरूरी सुविधाएं जुटाने में प्रशासन को 5 से 6 माह लगेंगे। 2019 में सब ठीक से चलता रहा तो अगले साल 2020 में फ्लाइंग क्लब से प्रशिक्षण की उड़ान भरने की उम्मीद जताई जा रही है।

बीत गए दो साल 
सूत्रों की मानें तो नागपुर फ्लाइंग क्लब से 17 जून 2017 को आखिरी उड़ान भरी गई थी, इसके बाद अगस्त के करीब तत्कालीन मुख्य उड़ान निदेशक शिव जायस्वाल यहां से चले गए। इसके बाद इस पद पर मुख्य उड़ान निदेशक संजीव झा को नियुक्ति की गई, लेकिन नागर विमानन निदेशालय (डीजीसीए) से अनुमति नहीं मिलने के बाद 15 मार्च 2018 को संजीव झा को मुख्य उड़ान निदेशक के पद से कार्यमुक्त कर दिया गया।

मुख्य उड़ान निदेशक की नियुक्ति के लिए कई बार  विज्ञापन निकाले गए, लेकिन नियुक्ति नहीं की जा सकी। मामले में राज्य सरकार द्वारा शिव जायस्वाल की नियुक्ति मुख्य उड़ान निदेशक के रूप में करने का पत्र जारी किया गया था, जिस पर न्यायालय ने उसे दो सप्ताह में अमल में लाने का आदेश दिया था। मामले में अगली सुनवाई 19 जुलाई को होेने वाली है।उल्लेखनीय है कि किसी भी हवाई अड्डे से उड़ान भरने के पहले टेक ऑफ और लैंडिंग परफॉरमेंस का हिसाब लगाया जाता है। नागपुर हवाई अड्डे के रनवे की लम्बाई  इस लिहाज से पर्याप्त है।।

अभी नहीं आया जवाब
शिव जायस्वाल के लिए 10 जुलाई को पत्र जारी किया गया है। यह पत्र अभी तक उनके पास पहुंचा है या नहीं, यह कहना मुश्किल है, लेकिन उनके द्वारा अभी तक विभागीय कार्यालय को कोई जवाब नहीं दिया गया है। सूत्र बताते हैं कि वह निजी विमान कंपनी में अपनी सेवाएं दे रहे हैं।