दैनिक भास्कर हिंदी: अंतिम संस्कार के समय नदी में आई बाढ़, बह गया अधजला शव

June 17th, 2020

डिजिटल डेस्क, वणी (यवतमाल)।  वणी के पलसोनी के निर्गुंडा नदी में  एक व्यक्ति का अंतिम संस्कार किया जा रहा था। इस बीच अचानक नदी में पानी आने से बाढ़ सी आ गई और अधजला शव बह गया। आखिरकार 24 घंटे बाद मंगलवार की शाम मृतक का शव घटनास्थल से कुछ ही दूरी पर पाया गया तो लोगों ने वहीं पर उसका अंतिम संस्कार कर दिया।   जानकारी के अनुसार पलसोनी गांव के 57 वर्षीय सीताराम बेलेकर की मृत्यु हो गई थी। सीताराम कुंभारखनी कोयला खान में कार्यरत थे। सोमवार सुबह 9 बजे ड्यूटी पर जाते समय दुर्घटना में उनकी मौत हो गई थी। इस कारण पुलिस ने शव का पंचनामा कर लाश पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

पोस्टमार्टम के बाद सोमवार शाम परिजनों को सौंपा गया। इस कारण शाम 6 बजे अंतिम संस्कार किया जा रहा था।  इधर बारिश नहीं होने के कारण निगुंडा नदी पूरी तरह सूखी हुई थी। अंतिम संस्कार चल ही रहा था कि शाम छह बजे अचानक नदी में पानी आ गया और शव अधजली अवस्था में बह गया। इस गांव में नदी के तट पर अंतिम संस्कार करवाया जाता है। कोई मूसलाधार बारिश नहीं होने से नदी नाले सूख चुके थे। निर्गुंडा नदी का भी वह हिस्सा सूखा हुआ था। वहीं पर चिता रची गई। उसके बाद चिता को अग्नि दी गई। इसके कुछ देर बाद अचानक नदी में पानी आया और जलती हुई लकडिय़ों समेत शव लोगों के सामने बह गया। कुछ लोगों ने शव को पकडऩे का प्रयास किया, लेकिन पानी का प्रवाह इतना तेज था कि, उसे रोक नहीं पाए। 

डैम से नहीं छोड़ा पानी
नवरगांव, मारेगांव, वेगांव, कोलगांव आदि क्षेत्रों में हुई बारिश का पानी बहते हुए निर्गुुंडा नदी में आता है। वहीं पानी तेज बहाव के साथ होने संभावना है। वैसे किसी डैम का पानी छोड़ा नहीं गया है। पानी छोडऩे के लिए जिलाधिकारी की मंजूरी आवश्यक होती है। जिस क्षेत्र में पानी जा रहा होता है, वहां के लोगों को सतर्क रहने की चेतावनी पहले ही देनी पड़ती है। डैम में सिर्फ  ३४ फीसदी पानी होने से उसे छोडऩे की जरूरत ही नहीं थी। 
 -अमित पारणकर, उपअभियंता सिंचाई विभाग पांढरकवडा
 

खबरें और भी हैं...