दैनिक भास्कर हिंदी: MP में बाढ़ से हालात बेकाबू: शिवपुरी, श्योपुर, ग्वालियर और दतिया में 2 हजार से ज्यादा लोग फंसे, CM शिवराज ने मांगी सेना से मदद

August 4th, 2021

डिजिटल डेस्क, भोपाल। मध्य प्रदेश में लगातार जारी बारिश से ग्वालियर-चंबल संभाग में बाढ़ आ गई है। शिवपुर, श्योपुर, ग्वालियर, दतिया के आस-पास के गांवों में दो हजार से ज्यादा लोग फंसे हुए हैं। 7 लोगों की मौत हो चुकी है, 25 लोग लापता हैं। NDRF की टीम लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन कर रही है। अब तक कुल 1900 लोगों को बाढ़ से निकाला जा चुका है। वहीं, ग्वालियर-चंबल संभाग में 2 हजार से ज्यादा लोगों को बचाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भारतीय सेना से मदद मांगी है। सीएम शिवराज ने मीडिया से कहा, प्रदेश में बढ़ा संकट आया है। सेना की मदद ले रहे हैं। 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार 11 बजे भोपाल से ग्वालियर पहुंचे। इस दौरान मीडिया से बातचीत में सीएम शिवराज ने कहा, उत्तरी मध्यप्रदेश में बाढ़ की स्थिति गंभीर है। शिवपुरी, श्योपुर, दतिया, ग्वालियर, गुना, भिंड और मुरैना ज़िलों के 1,225 गांव प्रभावित हैं। 240 गांव में SDRF, NDRFHQ, भारतीय सेना और BSF ने मिलकर लगभग 5,950 लोगों को सुरक्षित निकालने में सफलता प्राप्त की है। बारिश का वेग ज़रूर कम हो गया है, लेकिन मौसम उत्तर की दिशा में शिफ्ट हो रहा है। मुझे विश्वास है कि भयानक बारिश नहीं होगी, हम जनता को राहत पहुंचाने के प्रयास लगातार कर रहे हैं। व्यवस्थाएं पुनः सुदृढ़ हों, आज से इसके प्रयास भी किये जायेंगे।

सीएम शिवराज ग्वालियर एयरपोर्ट से हेलिकॉप्टर से श्योपुर-शिवपुरी में एरियल सर्वे करेंगे। खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दो बार मुख्यमंत्री से चर्चा का हालात पर बात कर चुके हैं। आधी रात तक मुख्यमंत्री अफसरों से हालात पर बैठक की। एक सप्ताह से लगातार बारिश और बांधों के ओवरफ्लो होने के बाद नदियों में छोड़े गए पानी ने ग्वालियर-चंबल अंचल में हालात काबू से बाहर हो गए हैं। सबसे ज्यादा शिवपुरी, श्योपुर, दतिया और ग्वालियर जिले प्रभावित हुए हैं। शिवपुरी के करैरा, पोहरी विधानसभा के 100 से ज्यादा गांव बाढ़ की चपेट में हैं। ग्वालियर के शिवपुरी से लगे भितरवार और मोहना में भी स्थिति खराब है। सिंध, पार्वती, कूनो, नोन नदियों के किनारे बसे कई गांव पानी में डूब गए हैं।

सीएम शिवराज सिंह ने बताया कि चम्बल,क्वांरी नदियों से प्रभावित मुरैना के 13 गांव बाढ़ ग्रस्त हैं। अब तक 250 से अधिक लोगों को सुरक्षित निकाला गया है और 200 व्यक्तियों के लिए बचाव कार्य जारी है। दतिया के 36 प्रभावित गांवों से अब तक 1100 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है और 45 व्यक्तियों के लिए अभियान जारी है। श्योपुर के 30 ग्राम बाढ़ प्रभावित हैं। राहत एवं बचाव कार्य तेजी से चल रहा है। अब तक लगभग 1000 से अधिक व्यक्तियों को सुरक्षित निकाल लिया गया है।

सीएम शिवराज ने बताया कि वर्तमान में ग्राम जवालापुर, भेरावदा, मेवाड़ा, जातखेड़ा में फंसे लगभग 1 हजार लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए अभियान जारी है। वहीं, ग्वालियर के पवाया भितरवार में बीएसएफ की मदद से प्रशासन ने 24 लोगों को रात में सुरक्षित निकाल लिया है, जिसमें से अधिकतर बच्चे और महिलाएं थीं। अंधेरे और विपरीत परिस्थितियों में भी इस ऑपरेशन को सफलतापूर्वक अंजाम देने वाले BSF के जवान अभिनंदन के पात्र हैं।

सीएम शिवराज ने ट्वीट करते हुए लिखा, केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने आश्वस्त किया है कि केन्द्र सरकार, मध्य प्रदेश के साथ है और बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में फंसे नागरिकों को रेस्क्यू करने में जो भी आवश्यकता होगी, उसमें केन्द्र पूरा सहयोग करेगा। मैं मध्य प्रदेश की जनता की ओर से उनके प्रति हृदय से आभार व्यक्त करता हूं।

कहां कितनी बारिश?

  • शिवपुरी: 470 MM
  • गुना: 270 MM
  • श्योपुर: 215 MM
  • अशोक नगर: 180 MM
  • मुरैना: 80 MM
  • ग्वालियर: 72 MM

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा डबरा और दतिया जिले में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने पहुंचे

 

खबरें और भी हैं...