कानून का कड़ाई से नहीं हो रहा पालन: महिलाओं को सुरक्षा देने में सरकार असफल - डेहनकर

November 25th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  राज्य में महिलाओं की सुरक्षा पर सवाल उठाते हुए भाजपा की प्रदेश सचिव अर्चना डेहनकर ने कहा है कि सरकार सुरक्षा देने में असफल है। बीड, साकीनाका, परभणी, डोंबिवली सहित अन्य स्थानों  में दुष्कर्म, महिला प्रताड़ना के गंभीर मामले सामने आने के बाद भी राज्य सरकार उदासीन है। राज्य में इन अपराधों को रोकने के लिए कानून का कड़ाई से पालन नहीं हो रहा है। पत्रकार वार्ता में डेहनकर बोल रही थीं। 

राज्य में है निराशा : डेहनकर ने कहा कि महिला सुरक्षा के मामले में दो वर्ष में राज्य को निराशा मिली है। राज्य मंत्रिमंडल के सदस्य महिलाओं का अपमान करते दिखते हैं। 2019 में शीतकालीन अधिवेशन में तत्कालीन गृहमंत्री ने राज्य में शक्ति कानून लागू करने की घोषणा की थी, लेकिन वह कानून लागू नहीं किया गया है। केंद्र सरकार ने महिला अत्याचार की घटनाओं को रोकने के िलए 2020 में नई नियमावली घोषित की। 

निर्देश पर अमल नहीं : महिला प्रताड़ना के मामले में एफआईआर दर्ज करने में विलंब करने वाले पुलिस अधिकारी पर कार्रवाई, दुष्कर्म के प्रकरण की दो माह में जांच पूरी करने के निर्देश दिये गए हैं, लेकिन राज्य में इस नियमावली का भी ध्यान नहीं रखा जा रहा है। राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष पर सत्ता का गैर इस्तेमाल करने का आरोप है। युवती की आत्महत्या के मामले में एक मंत्री को आरोपी पाया गया। एक मंत्री अपने दामाद को बचाने के लिए पत्रकार वार्ता के माध्यम से लगातार निराधार बातें करते रहते हैं।