तमिलनाडु: सरकार ने झुग्गीवासियों की पुनर्वास नीति का मसौदा किया जारी

October 13th, 2021

हाईलाइट

  • झुग्गीवासियों की पुनर्वास नीति का मसौदा जारी

डिजिटल डेस्क,  चेन्नई। तमिलनाडु सरकार ने झुग्गीवासियों के पुनर्वास और पुनर्वास नीति का पहला मसौदा जारी किया है। तमिलनाडु शहरी आवास विकास बोर्ड (टीएनयूएचडीबी) द्वारा मंगलवार को जारी मसौदा नीति में कहा गया है कि यह विभिन्न अधिनियमों और नियमों के तहत विभागों, वैधानिक निकायों और स्थानीय निकायों द्वारा किए गए अतिक्रमण, बेदखली और विस्थापन पर लागू होता है।

इसमें कहा गया है कि पुनर्वास के लिए भूमि की पहचान करते समय, इच्छित लाभार्थियों की दैनिक आजीविका गतिविधियों को ध्यान में रखा जाना चाहिए। इसमें यह भी कहा गया है कि पुनर्वास के लिए भूमि की खोज करते समय रोजगार के स्रोत और निकटतम शहरों से दूरी पर भी विचार किया जाना चाहिए। टीएनयूएचडीबी (जो पहले तमिलनाडु स्लम क्लीयरेंस बोर्ड था) ने भी मसौदे में निर्दिष्ट किया है कि झुग्गीवासियों को केवल उन क्षेत्रों में समायोजित किया जाना चाहिए, जहां से बस या ट्रेन द्वारा निकटतम शहर तक पहुंचने में केवल आधा घंटा लगेगा।

इस मसौदा नीति में परिकल्पना की गई है कि यह आपत्तिजनक पोराम्बोक भूमि से बेदखल किए गए लोगों पर अन्य निर्देशों पर प्रबल होगी। इसमें यह भी कहा गया है कि यह नीति केवल भूमि के अतिक्रमण करने वाले धारकों पर लागू होती है।

 

(आईएएनएस)

खबरें और भी हैं...