दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोना महामारी के बीच नागपुर में बढ़ी स्वास्थ्य बीमा की बिक्री

March 5th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सिर्फ टैक्स बचाने का साधन समझी जाने वाली बीमा पॉलिसी को कोरोना संक्रमण ने परिवार के स्वास्थ्य की चिंता से जोड़ दिया है। बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए लोग न सिर्फ परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य के प्रति अधिक सजग होकर स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी ले रहे हैं, बल्कि कोरोना होने पर इन पॉलिसी से फायदा भी उठा रहे हैं। स्वास्थ्य बीमा क्षेत्र के जानकारों के अनुसार शहर में स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी की बिक्री में 30 से 40 प्रतिशत तक का इजाफा हुआ है। पहले जहां 1000 के पीछे 10 से 15 लोग स्वास्थ्य बीमा खरीदते थे, वहीं अब 1000 के पीछे 30 से 35 लोग स्वास्थ्य बीमा खरीद रहे हैं। 

जानकारों के अनुसार पहले वे ही लोग स्वास्थ्य बीमा खरीदते थे, जो इसके बारे में पूरी तरह से जानकारी रखते थे। अधिकांश लोगों का रुझान जनरल इंश्योरेंस की ओर होता था, लेकिन अब हालात बदल चुके हैं। कोरोना ने लोगों को स्वास्थ्य बीमा का महत्व बहुत अच्छी तरह से समझा दिया है। कोरोना से संक्रमित होने के बाद प्राइवेट अस्पतालों को लाखों रुपए का बिल चुका चुके लोग स्वास्थ्य बीमा खरीदने में ज्यादा रुचि ले रहे हैं। कोरोनाकाल में लोगों के मेडिकल एक्सपेंसेस भी काफी बढ़ोतरी हो  गई है।  

स्वास्थ्य बीमा के प्रति जागरूक हो रहे लोग
स्वास्थ्य बीमा कंपनी स्टार हेल्थ इंश्योरेंस के डिवीजनल मैनेजर नीरज गुप्ता ने बताया कि लोगों के पास जनरल इंश्योरेंस होने के बाद भी अलग से स्वास्थ्य बीमा खरीद रहे हैं। महामारी आने से पूर्व बहुत कम लोगों को स्वास्थ्य बीमा का महत्व पता था, लेकिन अब अधिकांश लोग इसका महत्व जान चुके हैं। कोरोना के इलाज के लिए 3 से 12 माह की पॉलिसी

भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) ने कोरोना के इलाज के लिए स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी लाने के लिए कंपनियों को कहा था। अधिकांश सामान्य व स्वास्थ्य बीमा कंपनियां 3 से 12 माह की पॉलिसी ला चुकी हैं। अलग-अलग कंपनियां 3 माह के लिए 1 लाख के बीमा पर 400-600 रुपए तक प्रीमियम ले रही है।

ये कंपनियां कर रहीं आपके स्वास्थ्य का बीमा
शहर में 30 से अधिक कंपनियां है जाे स्वास्थ्य बीमा बेचती है, लेकिन इनमें से 6 कंपनियां है जो केवल स्वास्थ्य बीमा के क्षेत्र में कार्यरत है। इनमें स्टार हेल्थ, मैक्सबूपा, आदित्य बिरला, एचडीएफसी एर्गो, सिग्ना टीटीके आैर रेलिगेयर को बीमा िवनियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) ने स्वास्थ्य बीमा करने के लिए अधिकृत किया है। इसके अलावा जनरल इंश्योरेंस के क्षेत्र में 25 कंपनियां कार्यरत हैं। यह कंपनियां भी स्वास्थ्य बीमा बेचती हैं।