comScore

शाह का छत्तीसगढ़ दौरा: नक्सली एनकाउंटर पर बोले अमित शाह- जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा

शाह का छत्तीसगढ़ दौरा: नक्सली एनकाउंटर पर बोले अमित शाह- जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा

डिजिटल डेस्क, रायपुर। केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह बीजापुर में हुए नक्सली एनकाउंटर के बाद आज छत्तीसगढ़ के दौरे पर पहुंचे हैं। शाह ने जगदलपुर में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी उनके साथ हैं। शाह ने छत्तीसगढ़ दौरे पर मीडियो को संबोधित करते हुए कहा, विगत कुछ वर्षों में नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई निर्णायक मोड़ पर पहुंची है। इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना ने इसको और बढ़ाने का काम किया है, हम दो मकाम और आगे पहुंचे हैं।

शाह ने कहा, मैं देश को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि नक्सलियों के खिलाफ ये लड़ाई रुकेगी नहीं बल्कि और गति के साथ आगे बढ़ेगी। इस लड़ाई को अंजाम तक ले जाएंगे, नक्सलवादियों के खिलाफ हमारी विजय निश्चित है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई को लॉजिकल एन्ड तक ले जाने के लिए भारत सरकार की प्राथमिकता पहले से तय की है।

शाह ने कहा, मैं छत्तीसगढ़ और देश की जनता को विश्वास दिलाना चाहता हूँ कि हम इस लड़ाई को अब और तेज करेंगे। जो जवान शहीद हुए हैं उनके परिजनों को भी मैं कहना चाहता हूँ कि इस सर्वोच्च बलिदान को देश कभी भूल नहीं सकता। मैं भारत सरकार की ओर से शहीदों के परिजनों को कहना चाहता हूँ कि पूरा देश आपके साथ खड़ा है। वीर जवानों का ये बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

जानकारी के मुताबिक गृहमंत्री शाह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ  बीजापुर में बासागुड़ा स्थित CRPF के कैंप भी जा सकते हैं। इसके साथ ही शाह सीनियर ऑफिसर्स के साथ मीटिंग करेंगे। 

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में हुए नक्सली हमले के बाद सुरक्षा स्थिति की समीक्षा करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज छत्तीसगढ़ में है। शहीदों का नमन करने के बाद शाह हमले में घायल हुए सुरक्षाकर्मियों से भी मिलेंगे, साथ ही उस जगह का भी दौरा करेंगे जहां सुरक्षाकर्मियों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई थी। इससे पहले रविवार को शाह ने रविवार को राष्ट्रीय राजधानी में अपने निवास पर हमले की समीक्षा की थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी और हम इसे अंत तक ले जाएंगे।

चुनावी प्रचार के लिए असम गए गृह मंत्री हमले की जानकारी मिलते ही तत्काल दिल्ली लौटे थे और फिर गृह मंत्रालय, खुफिया ब्यूरो और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की थी। बीजापुर जिले में 300 सदस्यीय पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी (पीएलजीए) के एक दल के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़ में 22 सुरक्षाकर्मी मारे गए हैं और 31 घायल हुए हैं।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के राकेश्वर सिंह मन्हास की अर्धसैनिक बल की कोबरा (कमांडो बटालियन फॉर रिजॉल्यूट एक्शन) यूनिट अभी भी लापता है, और उसका पता लगाने के लिए तलाशी अभियान जारी है। नक्सलियों को भी भारी नुकसान होने की खबर है। सीआरपीएफ और राज्य के पुलिस अधिकारियों ने कहा कि सुरक्षा बलों ने एक महिला नक्सली कमांडर का शव भी बरामद किया है, जिसकी पहचान मडावी वणोजा के रूप में हुई है। साथ ही खुफिया जानकारी का हवाला देते हुए, सीआरपीएफ ने कहा कि ऑपरेशन में 12 से ज्यादा नक्सली मारे गए हैं और 16 से ज्यादा घायल हुए हैं।


 

कमेंट करें
ya4z2