comScore

सेंट्रल जेल के अधीक्षक सहित 102 कर्मचारियों की घर वापसी

सेंट्रल जेल के अधीक्षक सहित 102 कर्मचारियों की घर वापसी

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सेंट्रल जेल के अंदर पिछले 21 दिनों से ड्यूटी पर तैनात 102 अधिकारियों, कर्मचारियों की  उनकी घर वापसी हो गई। इसमें जेल अधीक्षक अनूप कुमरे भी शामिल हैं। 1 मई से यह सभी अधिकारी, कर्मचारी कोरोना संक्रमण न फैले, इसके चलते सेंट्रल जेल के अंदर ही तैनात थे। जेल में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए कोरोना बाधित क्षेत्र के 7 कारागारों में लॉकडाउन करने का निर्णय लिया गया था। नागपुर की सेंट्रल जेल आठवीं जेल है, जहां पर अधिकारी, कर्मचारी अंदर ही कार्य कर रहे हैं। 1 मई को गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सेंट्रल जेल में 102 अधिकारियों, कर्मचारियों को जेल के अंदर ही रहकर ड्यूटी करने का आदेश दिया था।  जो 105 अधिकारी, कर्मचारी जेल के अंदर बी टीम के रूप में प्रवेश किए, उनका पहले कोरोना की जांच की गई। उनकी रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें जेल के अंदर जाने की अनुमति दी गई।

नहीं आई है 12 लोगों की रिपोर्ट
सूत्रों के अनुसार सेंट्रल जेल के क्वारंेटाइन सेंटर में रहनेवाले 60 कैदियों की कोरोना जांच के लिए भेजी गई जांच रिपोर्ट में 48 कैदियों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। 12 कैदियों की जांच रिपोर्ट आनी है। जिन कैदियों की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है, अब वरिष्ठ अधिकारियों का आगे का आदेश मिलने पर उन्हें जेल के अंदर भेजा जाएगा। फिलहाल यह सभी लोग जेल के क्वारंेटाइन सेंटर में रखे गए हैं।

मन में जाग रहा विश्वास
कोरोना संक्रमण की बीमारी को लेकर कैदियों व आरोपियों के मन में विश्वास जाग रहा है। जेल के अंदर 21 दिन रहने पर पता चला कि बाहर और अंदर की आबोहवा में कितना अंतर है। जेल के अंदर अधिकारियों, कर्मचारियों के मनोरंजन के लिए कैरम, चेस, बैडमिंटन, क्रिकेट व अन्य मनोरंजक खेल का आयोजन किया गया है, जिससे काम के बाद उनकी थकान दूर हो सके। कुछ ऐसे भी कैदी हैं जो अपने किए पर पछतावा कर रहे हैं। कैदियों के मन में यह भी बात घर कर रही है कि वह अपनी सजा पूरी कर जल्द से जल्द अपने घर चले जाएं। -- अनूप कुमरे, अधीक्षक, सेंट्रल जेल, नागपुर    
 

कमेंट करें
5Q2aR