दैनिक भास्कर हिंदी: ऑनर किलिंग : दो भाइयों ने जीजा के साथ मिलकर की बहन और प्रेमी की हत्या

September 18th, 2018

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा। उमरेठ के ऑनर किलिंग में प्रेम प्रसंग के चलते युवती के सगे भाई ने अपने चचेरे भाईयों और जीजा के साथ मिलकर दोनों युवक-युवती की हत्या की और शवों को घटनास्थल से लगभग तीन किलोमीटर दूर ले जाकर जला दिया। यह खुलासा सोमवार को एडिशनल एसपी कमल मौर्य, प्रोविशनल डीएसपी पूर्ती तिवारी व थाना प्रभारी उमरेठ महेंद्र भगत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में किया है।

पुलिस ने बताया कि मृतक निर्मल पिता सुखलाल बट्टी उम्र 25 वर्ष निवासी पटपड़ा हाल निवास उमरेठ का पिछले कई सालों से तानसी हिरदागढ़ निवासी 20 वर्षीय सविता पिता रम्पू धुर्वे के साथ प्रेम संबंध थे। 12 सितंबर की रात लगभग 9.30 बजे उमरेठ स्थित स्कूल परिसर में निर्मल और सविता संदिग्ध अवस्था में सविता के भाई को दिख गए।

गुस्से में आए भाई सतीश ने दोनों को स्कूल परिसर में ही अपने चचेरे भाई राशीलाल पिता चिरौंजी धुर्वे निवासी तान्सी दमुआ, अपने जीजा गणेश पिता रंगू उईके निवासी जामुन बिछुआ थाना बोरदेही बैतूल और अशोक पिता अज्जू धुर्वे उम्र 42 वर्ष निवासी उमरेठ के साथ मिलकर हत्या कर दी। इसके बाद शवों को दोपहिया वाहनों से लगभग तीन किलोमीटर दूर ले जाकर जला दिया। पुलिस ने सघन तफ्तीश के बाद चारों आरोपियों को धारा 302,201 आईपीसी के तहत गिरफ्तार कर लिया है।

युवती शाम 5 बजे से स्कूल में कर रही थी प्रेमी का इंतजार 
मृतक निर्मल और युवती के परिवार आपस में रिश्तेदार हैं। 12 सितंबर को तीज पर्व पर उनके समाज की परंपरा अनुसार रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है। इसी त्योहार के लिए मृतक युवक और युवती का पूरा परिवार आरोपी अशोक पिता अज्जू धुर्वे के घर उमरेठ पहुंचा था। हालांकि युवती इस त्योहार के लिए वहां नहीं आई थी। युवती को लेने निर्मल तानसी गया था और उसे उमरेठ लाकर शाम पांच बजे ही स्कूल में बिठा दिया था। रात 8.30 बजे तक युवती निर्मल का इंतजार करते स्कूल में ही बैठी रही। 

युवती का भाई युवक की तलाश में पहुंचा स्कूल
मृतक युवक-युवती का पहले से प्रेम प्रसंग चल रहा था, लेकिन 2016 में मृतक निर्मल ने एक अन्य युवती से प्रेम विवाह कर लिया। निर्मल की पत्नी भी मृतिका सविता की रिश्तेदार ही थी। लेकिन विवाह के बाद फिर से निर्मल के सविता से संबंध बन गए यह बात युवती के परिवार वालों को पसंद नही थी। उमरेठ में त्योहार के लिए एकत्रित हुए युवती के परिवार जनों की नजर युवक निर्मल पर थी। रात्रि में जब सविता के भाई को निर्मल दिखाई नही दिया तो उसने निर्मल की तलाश शुरू की और वह तलाश करते हुए स्कूल पहुंच गया। वहां आरोपी सतीश ने दोनों को आपत्तिजनक हालत में देख लिया था। आरोपी ने उस समय सीधा वापस अशोक के घर गया और अपने साथियों को हथियार के साथ वापस लेकर आया।

पहले युवती का गला घोंटा फिर की युवक की हत्या 
आरोपियों ने स्कूल में ही दोनों को पकड़ लिया था। आरोपियों ने युवक व युवती को पकडऩे के बाद पहले युवक के सामने ही गला घोंटकर युवती की हत्या की और बाद में कुल्हाड़ी और लाठियों से हमला कर युवक को भी मौत के घाट उतार दिया। हालांकि पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने कई बार पुलिस को गुमराह भी किया। बाद में स्वीकार किया कि वे शवों को दोपहिया वाहनों से तीन किलोमीटर दूर ले गए थे। 

एडिशनल एसपी कमल मौर्य ने मामले में कहा, 'अंधे हत्याकांड में पूरी पुलिस टीम ने कड़ी मेहनत कर इस हत्याकांड का खुलासा किया है। सभी आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं, पुलिस अधीक्षक ने पुलिस टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।'