comScore

हनी ट्रैप : आरोपी महिलाओं को ट्रांजिट रिमांड, कल होंगी इंदौर अदालत में पेश

हनी ट्रैप : आरोपी महिलाओं को ट्रांजिट रिमांड, कल होंगी इंदौर अदालत में पेश

डिजिटल डेस्क,भोपाल। मध्यप्रदेश में इन दिनों हनी ट्रैप का मामला गर्माया हुआ है। जांच में दिन-प्रतिदिन नए खुलासे होते जा रहे हैं। वहीं पुलिस रिमांड पर चल रही तीन आरोपी महिलाओं को सोमवार को भोपाल कोर्ट में पेश किया गया। जहां से तीनों को ट्रांजिट रिमांड पर भेज दिया गया है। तीनों महिलाओं को कल (मंगलवार) इंदौर कोर्ट में पेश किया जाएगा।

हनी ट्रैप मामले में गिरफ्तार तीनों महिलाएं, श्वेता जैन(पति विजय जैन), श्वेता जैन(पति स्वप्रिल जैन) और बरखा सोनी को सोमवार मामले की जांच कर रही एसआईटी टीम ने न्यायिक मजिस्ट्रेट भरत कुमार व्यास की अदालत में पेश किया। जहां से आरोपी महिलाओं को एक दिन की ट्रांजिट रिमांड पर भेज दिया गया। तीनों को कल सुबह साढ़े ग्यारह बजे इंदौर कोर्ट में पेश किया जाएगा।

नेताओं-अफसर के फोन करवाए टैप

हनीट्रैप मामले में हर दिन नए-नए खुलासे होते जा रहा हैं।अफसरों और नेताओं के फोन को टैप भी किया जा रहा था। इसके लिए एक सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल होता था। आरोपी श्वेता जैन ने बंगलुरू की एक कंपनी को फोन ट्रैप करने और सर्विलांस का जिम्मा दिया था। फोन टैपिंग के कंपनी पिगासस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करती थी। 

लिपस्टिक और चश्मे में लगाए थे कैमरे

हनी ट्रैप गिरोह के सदस्य लोगों को अंतरंग वीडियो रिकॉर्ड करने के लिए कैमरे लिपस्टिक और चश्मों में छुपाकर रखते थे। इन्हीं वीडियो की मदद से धनी और रसूखदार लोगों को ब्लैकमेल करते थे। गौरतलब है कि इंदौर नगर निगम के इंजीनियर हरभजन सिंह की शिकायत पर पुलिस ने 19 सितंबर को हनी ट्रैप गिरोह का खुलासा किया था। गिरोह की पांच महिलाओं समेत 6 सदस्यों को भोपाल और इंदौर से 18 व 19 सितंबर को गिरफ्तार किया था। 

पूर्व मुख्यमंत्री का वीडियो वायरल

हनी ट्रैप के जुड़े कई वीडियो वायरल भी होने लगे है। वहीं मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री का वीडियो भी सामने आया है। वीडियो में पूर्व सीएम काफी कम उम्र की लड़की के साथ संबंध बनाते दिख रहे हैं। एसआईटी जांच में अब तक 12 अधिकारियों और 8 पूर्व मंत्रियों के नामों सामने आए हैं। 

कॉलेज छात्राओं को किया मजबूर

हनी ट्रैप गिरोह की मुखिया श्वेता जैन ने एसआईटी जांच में कई बड़े खुलासे किेए हैं। पड़ताल में उसने बताया है कि करीब दो दर्जन कॉलेज छात्राओं का इस्तेमाल गलत कामों में किया गया। मध्यमवर्गीय परिवार की लड़कियों को बड़े अधिकारियों और नेताओं को लुभाने के लिए भेजा जाता था। 


 

कमेंट करें
s7n4Q