दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर एयरपोर्ट पर पार्किंग के नाम पर अवैध वसूली, अथॉरिटी मौन

February 15th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर एयरपोर्ट परिसर में वाहन के प्रवेश करते ही पार्किंग शुल्क वसूला जाता है। पार्किंग के नाम पर हो रही इस वसूली से जहां लोग परेशान हैं, वहीं एयरपोर्ट अथॉरिटी की चुप्पी कई सवाल खड़े कर रही है। लोगों का सवाल है कि जब गाड़ी पार्क ही नहीं हुई तो यह वसूली सरासर ज्यादती है। 

पिकअप के लिए प्रवेश करने पर भी देना पड़ रहा शुल्क 
उल्लेखनीय है कि नागपुर एयरपोर्ट से प्रतिदिन करीब 70 फ्लाइट लैंड करने के बाद टेक आफ करती है। नागपुर एयरपोर्ट से हर दिन हजारों यात्री उड़ान भरते हैं।  यात्रियों के छोड़ने और ले जाने रिश्तेदार अपने वाहनों के साथ दाखिल होते हैं।  चार पहिया वाहन दाखल होते ही 70 रुपए पार्किंग शुल्क के नाम पर वसूल लिए जाते है। भले ही गाडी पार्क नहीं हुई हो, बस परिसर में आते ही शुल्क लागू हो जाता है। परिसर में हर दिन एक हजार से ज्यादा चार पहिया वाहन यात्रियों व परिचितों को पिकअप करने के जाते हैं और तुरंत निकल जाते हैं। ये वाहन यहां एक मिनट भी खड़े नहीं रहते। बावजूद इनसे 70 रुपए शुल्क वसूला जाता है। नागपुर एयरपोर्ट परिसर से ओला या उबर बुक करने पर किराए के साथ ही पार्किंग शुल्क के नाम पर 70 रुपए देने का मैसेज मोबाइल पर आ जाता है। ओला या उबेर यात्री को पिकअप करते ही यात्री को तुरंत स्टैंड संचालक को 70 रुपए देने पड़ते हैं। गाडी मुश्किल से 5 सेकंड खड़ी रहती है। प्राइवेट गाड़ी पहुंचे तो उनसे भी इतना ही शुल्क लिया जाता है। 
  
दिल्ली से अलग कैसे यहां के नियम 
दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने के बाद कई बार ओला-उबर बुक की। वहां अलग से पार्किंग शुल्क नहीं लिया गया। केवल यात्री किराया लिया गया। नागपुर एयरपोर्ट दिल्ली एयरपोर्ट से अलग राह पर कैसे चल रहा, यह समझ से परे है। एयरपोर्ट अथॉरिटी के संरक्षण के बगैर यह ज्यादती चलना मुश्किल है। पार्किंग का मतलब गाडी पार्क करना होता है। गाडी पिकअप करके निकलती है और 70 रुपए लिए जाते हैं। मुश्किल से 5 सेकंड गाड़ी रुकी तो भी 70 रुपए वसूलना गलत है। 
-संजय थुल, अधीक्षक सेंट्रल एक्साइज एण्ड कस्टम नागपुर. 
 
पुणे में नहीं कोई शुल्क 
काम के सिलसिले में कई बार पुणे-मुंबई जाना पड़ता है। हर बार एयरपोर्ट परिसर से ओला-उबर बुक किया। पार्किंग शुल्क नहीं देना पड़ा। यहां गाडी पिकअप करने आते ही 70 रुपए की वसूली एकतरह से लूट है। निजी वाहनों के प्रवेश करते ही  चिट्ठी थमा दी जाती है। गाडी पार्क करने पर शुल्क लेना सही है, लेकिन पिकअप चंद सेकंड में होता है। एयरपोर्ट अथारिटी का इसे संरक्षण मिला हुआ है। 
-धीरज पाटील, अधीक्ष सेंट्रल एक्साइज एण्ड कस्टम नागपुर. 
 
यह टोकन चार्जेस है 
ओला-उबेर के लिए स्पेशल पिक-अप चार्जेस है। बाकी एयरपोर्ट पर भी यही सिस्टम है और उसी सिस्टम को यहां लागू किया गया है। यह टोकन चार्जेस है। ओला हो या निजी वाहन इस संबंध में मैं जानकारी देना ही नहीं चाहता। आरटीआई में जानकारी मांगिए। 
-विजय मुलेकर, वरिष्ठ संचालक एयरपोर्ट नागपुर. 
 

खबरें और भी हैं...