दैनिक भास्कर हिंदी: सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर दो युवतियों ने कई लोगों से की ठगी

July 28th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। स्थानीय जिला परिषद में नौकरी लगाने का झांसा देकर दो सहेलियों द्वारा कई लोगों को ठगे जाने का प्रकरण उजागर हुआ है। अभी तक आठ से दस लोगों ने शिकायत की है। मंगलवार को लकड़गंज थाने में सहेलियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया। अभी तक उनकी गिरफ्तारी नहीं हुई है। इस प्रकरण में पीड़ितों की संख्या और ठगी की रकम बढ़ने की संभावना व्यक्त की जा रही है। 

जिला परिषद में किया नौकरी दिलाने का वादा 
 विनकर वसाहत, मानेवाड़ा निवासी धर्मेद्र हनवते (35) निजी काम करता है। लॉकडाउन के दौरान धर्मेंद्र और उसकी पत्नी सुनीता को काम की तलाश थी। सुनीता पढ़ी-लिखी है। किसी के जरिए धर्मेंद्र और सुनीता की भारती दौलतराव सलामे से पहचान हुई। सुनीता ने जब अपनी जरूरत के बारे में भारती से जिक्र किया, तो उसने अपनी सहेली उज्वला सोनटक्के, रामगढ़ रोड, कामठी निवासी के पास भेजा। उज्वला ने सुनीता को स्थानीय जिला परिषद में नौकरी लगा देने का झांसा दिया और  इसके बदले हनवते दंपति से रुपए की मांग की। दंपति सरकारी नौकरी होने से रुपए देने के लिए तैयार हो गए। 

घर में लिए 70 हजार रुपए 
24 अक्टूबर 2020 को भारती के घर में हनवते दंपति ने उज्वला को नौकरी के लिए 70 हजार रुपए दिए। शेष रकम नौकरी मिलने के बाद देने का तय हुआ, लेकिन अभी तक सुनीता को न तो नौकरी मिली है और न ही उसे रुपए वापस मिले हैं। इसी तरह दोनों सहेलियों द्वारा आठ से दस बेरोजगारों को ठगा गया है। दंपति ने लकड़गंज थाने में शिकायत की है। उप-निरीक्षक वैभव बारंगे ने पीड़ितों की संख्या और ठगी की रकम बढ़ने की आशंका व्यक्त की है।
 

खबरें और भी हैं...