comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

स्वच्छता में नंबर ‌‌वन इंदौर के एक Video ने देश में कराई सरकार की बदनामी, प्रियंका गांधी ने घटना को मानवता पर कलंक बताया 


डिजिटल डेस्क (भोपाल)। मध्यप्रदेश के इंदौर का एक वीडियो पूरे देश में वायरल हो रहा है। इससे प्रदेश भाजपा सरकार कि बहुत निंदा हो रही है। यह वीडियो  इंदौर के पास शिप्रा का बताया जा रहा है, जिसमें इंदौर नगर निगम के कर्मचारी शहर के अशक्त ग़रीबों को बेसहारा छोड़ कर जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि सफाई व्यवस्था के नाम पर इन्हें सड़क से हटा कर शहर से 20 किलोमीटर दूर एक गांव में छोड़ दिया गया। जब गांव वालों ने इसके खिलाफ हंगामा किया तो कर्मचारी वापस इन्हें इंदौर शहर में छोड़ गए। 

इधर, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा कि इंदौर, मप्र की ये घटना मानवता पर एक कलंक है। सरकार और प्रशासन को इन बेसहारा लोगों से माफी मांगनी चाहिए और ऑर्डर लागू कर रहे छोटे कर्मचारियों पर नहीं बल्कि ऑर्डर देने वाले उच्चस्थ अधिकारियों पर ऐक्शन होना चाहिए।

दरअसल, वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि कर्मचारी बुजुर्ग भिखारियों को इंदौर-देवास सीमा पर शिप्रा नदी के पास छोड़कर जा रहे थे। कई बुजुर्ग चल-फिर भी नहीं सकते थे। वहां मौजूद लोगों ने इस अमानवीय हरकत का विरोध किया तो कर्मचारी घबरा गए। जब ये खबर सुर्खियों में आई तो निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल ने रैन बसेरा के दो कर्मियों को बर्खास्त कर दिया।

कांग्रेस नेता जीतू पटवारी और नरेंद्र सलूजा ने शिवराज सरकार से पूछा कि क्या यही आपका सुशासन है। नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट करते हुए लिखा कि 'इंदौर नगर निगम के अधिकारी स्वच्छता के नाम पर भारी ठंड में बुजुर्गों को शिप्रा छोड़ने पहुँचे, अब अधिकारी बेचारे क्या करे वो तो भाजपा की विचारधारा के अनुरूप ही तो काम कर रहे है ? भाजपा ने भी तो आडवाणी जी , जोशी जी , यशवंत सिन्हा जैसे कई बुजुर्ग नेताओ को कब से छोड़ दिया है' ?

कमेंट करें
C7H6g