दैनिक भास्कर हिंदी: बेटी का रिश्ता लेकर फरार वारंटी को पकड़ने पहुंची पुलिस टीम, 12 साल बाद गिरफ्तार

November 12th, 2018

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। पुलिस फिल्मी स्टाइल में 12 साल से फरार वारंटी को पकड़ने पहुंची। पुलिस वाले जब वारंटी को पकड़ने के लिए पहुंची, तो घर वालों ने मना कर दिया कि आरोपी घर पर नहीं है, जैसे ही उन्होंने बताया कि वे लड़की वाले हैं और अपके बेटे के लिए रिश्ता लेकर आए हैं, तो परिवार वालों ने पूरा पता दे दिया। फिर क्या था होटल में मिलने की बात तय हुई और जैसे ही आरोपी लड़की वाले बने पुलिस से मिलने पहुंचा, तो पुलिस ने फरार आरोपी को दबोच लिया। आरोपी के खिलफ विभिन्न धाराओं के तहत मामले दर्ज हैं।

इस सम्बंध में थाना प्रभारी हनुमानताल विजय तिवारी ने बताया कि पुलिस अधीक्षक जबलपुर अमित सिंह  द्वारा विधानसभा चुनाव 2018 को निर्विध्न एवं शांति पूर्वक सम्पन्न कराने हेतु लंबे से फरार वारंटियों की गिरफ्तारी हेतु विशेष अभियान चलाया गया है। राजेश तिवारी उम्र 48 वर्ष जो कि एलआईसी एजेन्ट था एवं पूर्व में बाबा टोला थाना हनुमानताल क्षेत्र मे रहता था,  चैक बाउंस के 5 स्थाई वारंट पिछले 12 वर्षो से एवं 2 गिरफ्तारी वारंट लंबित थे, जिसके सम्बंध में योजनाबद्ध तरीके से पतासाजी की गयी तो ज्ञात हुआ कि राजेश तिवारी किराये से ग्वारीघाट मे रह रहा है।

उन्होंने बताया कि गोपनीय रूप से घर के सम्बंध मे पतासाजी करते हुये घर पर पहुंची पुलिस के द्वारा राजेश तिवारी के सम्बंध में पूछा गया तो घर के वालो के द्वारा बताया गया कि घर पर नहीं हैं। घर वालों द्वारा यह पूछने पर कि क्या काम है, तो घर वालों को बताया गया कि राजेश तिवारी का एक बेटा है जिसके रिश्ते के सम्बंध में बात करनी है। पुलिस लगातार लड़की वाला बनकर 3 दिन तक राजेश तिवारी के घर पर गयी लेकिन राजेश तिवारी घर पर नहीं मिला तो घर वालों से राजेश तिवारी का  मोबाइ्रल नम्बर लेकर राजेश तिवारी से पुलिस टीम द्वारा बात की गयी, एवं बेटी के रिश्ते सम्बंध मे बात करने हेतु ग्वारीघाट स्थित एक होटल मे बुलाया गया।

जहां राजेश तिवारी पहुंचा उसके  पहुंचते ही मौके पर तैनात पुलिस टीम के द्वारा बातों मे राजेश तिवारी को उलझाये रखा गया।  इसी बीच इशारा पाकर आसपास मौजूद वर्दीधारी टीम के द्वारा राजेश तिवारी को पकड़कर थाना लाया गया। पुलिस ने बताया कि पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि  रायपुर में काफी समय रहकर पिछले 1 साल से ग्वारीघाट मे किराये का मकान लेकर सपरिवार रहना स्वीकार किया है। राजेश तिवारी को  विधिवत गिरफ्तार कर  न्यायालय के समक्ष  पेश किया गया। न्यायालय द्वारा राजेश तिवारी को  न्यायिक अभिरक्षा में  जेल भेज दिया गया।

 

खबरें और भी हैं...